जनवरी-फ़रवरी  2021 : वर्ष 26 II अंक 303

जनवरी-फ़रवरी 2021 : वर्ष 26 II अंक 303

क्रम :: जनवरी-फरवरी 2021 इस अंक में संपादकीय कहानियाँ -पिता (बांग्ला कहानी) : तमाल बंद्योपाध्याय, अनुवाद : संजय राय -झब्बू...
Read More
दिसंबर  2020 : वर्ष 26 II अंक 302

दिसंबर 2020 : वर्ष 26 II अंक 302

क्रम :: दिसंबर 2020 संपादकीय : विज्ञान की आजादी कविताएँ : जय गोस्वामी की दो कविताएं : हम पथिक हैं...
Read More
नवंबर  2020 : वर्ष 26 II अंक 301

नवंबर 2020 : वर्ष 26 II अंक 301

क्रम :: नवंबर 2020 संपादकीय : अब क्या खोना बाकी है ! कविताएँ : शंकरानंद की तीन कविताएं युद्ध और...
Read More
अक्टूबर 2020 : वर्ष 26 II अंक 300

अक्टूबर 2020 : वर्ष 26 II अंक 300

क्रम :: अक्टूबर 2020   आवरण तारक नाथ राय आवरण कथा : बच्चों की दुनिया का हाल :मो. आरिफ, पंकज...
Read More

भारतीय भाषा परिषद की मासिक पत्रिका वागर्थ के ऑनलाइन संस्करण में आपका स्वागत है।

इस अंक में

(पत्रिका पढ़ने के लिए कृपया शीर्षक पर क्लिक करें)

संपादकीय

कहानियाँ

पिता (बांग्ला कहानी) : तमाल बंद्योपाध्याय, अनुवाद : संजय राय
झब्बू : उन्मेष कुमार सिन्हा
डायरी में नीलकुसुम : पंकज सुबीर
लकड़ी का घोड़ा : आयशा आरफीन
कालू कलबंसिया (उपन्यास अंश): पानू खोलिया

परिचर्चा

-फणीश्वरनाथ रेणु का महत्व : भारत यायावर/ विष्णु नागर/ रवि भूषण/ अवधेश प्रधान/भगवानदास मोरवाल/ अजय तिवारी/ ओम प्रकाश पांडेय, प्रस्तुति : संजय जायसवाल

कविताएं

शेखर जोशी
पंकज चतुर्वेदी
महेश आलोक
उमा शंकर चौधरी
रमाशंकर सिंह
विराग विनोद
विजय सिंह नाहटा

संस्मरण

शैलेंद्र के गीत और ‘तीसरी कसम’ : प्रयाग शुक्ल

विश्वदृष्टि

अमेरिकी कविता : माया एंजेलो की कविता सुबह की नब्ज़ पर, अनुवाद : बालमुकुंद नंदवाना

समीक्षा संवाद

उपन्यास में बदलते गांव : श्रद्धांजलि सिंह

जीवन प्रसंग

विविध 

-पाठकीय प्रतिक्रिया
-सांस्कृतिक गतिविधियां

बतरस

मारवाड़ी राजबाड़ी : कुसुम खेमानी

लघुकथा :

1-खुशकिस्मत : रावेल पुष्प
2-मैचिंग मास्क : रावेल पुष्प

जयशंकर प्रसाद पर विशेष माल्टी-मीडिया प्रस्तुति :

1-कामायनी का स्वप्न सर्ग : एक पाठ-एक दृष्टि, विचार : आनंदशंकर प्रसाद (पौत्र जयशंकर प्रसाद), विनोद शाही और ओमप्रकाश सिंह, चित्रपाठ – अनुपम श्रीवास्तव
2-जीवनवृत्त साभार : महाकवि जयशंकर प्रसाद फाउंडेशन
3- मंगलेश डबराल की कविता ‘वर्णमाला’ : चित्रपाठ : मधु सिंह
4-सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की जयंती पर हिंदी की पहली ऑडियो विज़ुअल मैगज़ीन अबे कलजुग की विशेष मल्टीमीडिया प्रस्तुति : कितना वसंत है इस पतझर में… 

संपादकीय टीम :

संरक्षक :  इंद्रनाथ चौधुरी और स्वपन चक्रवर्ती
संपादक : शंभुनाथ
प्रबंध संपादक :प्रदीप चोपड़ा
प्रकाशक : डॉ. कुसुम खेमानी
संपादन सहयोग :सुशील कान्ति (vagarth.hindi@gmail.com, 7449503734)
मल्टीमीडिया संपादक : उपमा ऋचा (upma.vagarth@gmail.com, 9413658336)
आवरण : तारक नाथ राय
चित्रांकन साभार : विजय बिस्वाल, शिप्रा भट्टाचार्या,सचिन अकलेकर, रघुनाथ साहू, सांद्रा ब्रांट, लक्ष्मण अएले, अगाचार्य एवं गूगल

लेटेस्ट पोस्ट