स्वप्न और यथार्थ के बीच/ अंजन कुमार

स्वप्न और यथार्थ के बीच/ अंजन कुमार

अंजन कुमार विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में कविताएं एवं समीक्षाएं प्रकाशित। शिक्षण से जुड़े।   1-स्वप्न और यथार्थ के बीच कुत्तों के रूदन में गहरी हो चुकी रात गूंज रही है सूखे पत्तों पर   चांद अटका हुआ है पेड़ की शाख पर किसी उदास गेंद की तरह और तारे धुंध में कहीं...