मलयालम कविता रात की बारिश : सुगाथाकुमारी, अनुवाद : बालमुकुन्द नंदवाना

मलयालम कविता रात की बारिश : सुगाथाकुमारी, अनुवाद : बालमुकुन्द नंदवाना

कवि और अनुवादक सुगाथाकुमारी प्रख्यात मलयालम कवयित्री, पर्यावरणविद और महिला कार्यकर्ता, 86 वर्षीया पद्मश्री सुगाथाकुमारी का कोरोना महामारी से थिरुवनंतपुरम में 23 दिसंबर 2020 को निधन हो गया।उनकी प्रसिद्ध कविता Night Rain  का हिंदी अनुवाद – रात की बारिशकिसी पागल...
माया एंजेलो की कविता सुबह  की नब्ज पर, अनुवाद : बालमुकुंद नंदवाना

माया एंजेलो की कविता सुबह की नब्ज पर, अनुवाद : बालमुकुंद नंदवाना

कवि और अनुवादक। बहुत पहले नष्ट हो चुकी प्रजातियों के मेजबान-एक चट्टान, एक नदी, एक वृक्ष,जिन पर मैस्टोडॉन ने छाप छोड़ीडायनासोर, जिन्होंनेहमारे ग्रह परअपने अस्तित्व केशुष्क प्रमाण छोड़ेउनकी त्वरित विनाश की व्यापक चेतावनीयुगों के धुंधलके में कहीं खो हो गई हैलेकिन आज,...
विस्मृति से एतराज : स्वयं प्रकाश की कहानियाँ/ बालमुकुंद नंदवाना

विस्मृति से एतराज : स्वयं प्रकाश की कहानियाँ/ बालमुकुंद नंदवाना

चर्चित अनुवादक, पुस्तक ‘हिंदू धर्म प्रवेशिका’ समकालीन हिंदी कहानी के प्रकाश स्तंभ स्वयं प्रकाश को विशिष्ट पहचान दिलाने वाले प्रमुख तत्व हैं – यथार्थ की उनकी गहरी समझ, उनका वैज्ञानिक दृष्टिकोण और रचनात्मक विवेक, सोद्देश्यता और शिल्प के प्रति उनकी सजगता। इन सभी तत्वों...