परिचर्चा : फणीश्वरनाथ रेणु का महत्व

परिचर्चा : फणीश्वरनाथ रेणु का महत्व

प्रस्तुति : संजय जायसवाल कवि और समीक्षक। विद्यासागर विश्वविद्यालय, मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर।   फणीश्वरनाथ रेणु आंचलिक उपन्यास और नई कहानी दौर के विशिष्ट कथाकार हैं। वे हिंदी के पहले कहानीकार हैं, जो ग्रामीण क्षेत्रों में विज्ञान और टेक्नोलॉजी के प्रवेश का...
रचना है निरंतर/ भारत यायावर

रचना है निरंतर/ भारत यायावर

भारत यायावर निबंधकार और कवि। रेणु विशेषज्ञ के रूप में परिचित। फणीश्वरनाथ रेणु और महावीर प्रसाद द्विवेदी की रचनावली का संपादन।   रचना ही रहना है गढ़ना ही बचना है अपने होने को दिखाना मौन को प्रकट करना भाव को शब्द देना विचार को चलना सिखाना एक अरूप को रूप में बदलना...