संस्कृत से अनुदित दो कविताएं : हर्षदेव माधव

संस्कृत से अनुदित दो कविताएं : हर्षदेव माधव

साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त कवि। 167 पुस्तकों  के लेखक। घाव जहां पेड़ थेवहां है बंजर जमीनजहां थी नदीवहां है रेतजहां थे घोंसलेवहां बिखरे पड़े हैं तिनकेजहां घर थावहां है टूटी हुई दीवारेंऔर ईंटों का संघातजहां थे शब्दवहां है मौन का झुंडश्मशान की शांतिजहां थे वसंत के...