औरत का घर : जसिंता केरकेट्टा

औरत का घर : जसिंता केरकेट्टा

युवा लेखिका,स्वतंत्र पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता। ‘यह किसका बच्चा है?’ आम के पेड़ के नीचे बैठे पंच सलगो से पूछ रहे हैं। सलगो दो बेटों की मां है। पति मर चुका है। अब वह फिर पेट से है। गांव में पंचायत बैठी है। गांव के लोग कभी सलगो तो कभी पंच का चेहरा ताक रहे हैं। सलगो...
औरत का घर : जसिंता केरकेट्टा

औरत का घर : जसिंता केरकेट्टा

युवा लेखिका,स्वतंत्र पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता। ‘यह किसका बच्चा है?’ आम के पेड़ के नीचे बैठे पंच सलगो से पूछ रहे हैं। सलगो दो बेटों की मां है। पति मर चुका है। अब वह फिर पेट से है। गांव में पंचायत बैठी है। गांव के लोग कभी सलगो तो कभी पंच का चेहरा ताक रहे हैं। सलगो...