लोकप्रियतावाद का नया दौर- प्रस्तुति : मधु सिंह

लोकप्रियतावाद का नया दौर- प्रस्तुति : मधु सिंह

विद्यासागर विश्वविद्यालय, मेदिनीपुर में पीएच.डी. की शोध छात्रा।कोलकाता के खुदीराम बोस कॉलेज में शिक्षण। लोकप्रियतावाद एक इंद्रजाल की तरह है, जिसके आकर्षण से लोग बच नहीं पाते हैं। आज बाजार, प्रबंधन, मीडिया और टेक्नोलॉजी द्वारा बुने गए जाल में आम आदमी उलझता जा रहा है।...
कविता और जीवन का संवाद : मधु सिंह

कविता और जीवन का संवाद : मधु सिंह

    युवा लेखिका।विद्यासागर विश्वविद्यालय, मेदिनीपुर में पीएच.डी. की शोध छात्रा।कोलकाता के खुदीराम बोस कॉलेज में शिक्षण। कविता और मनुष्य का पुराना सृजनात्मक नाता है।कविता मानव मन की कई उलझनों को स्पष्ट करने और कई बार चेतना को जगाने का काम करती है।यह गहरे...
नया विश्व : लोकतंत्र की संस्कृति, प्रस्तुति : मधु सिंह

नया विश्व : लोकतंत्र की संस्कृति, प्रस्तुति : मधु सिंह

विद्यासागर विश्वविद्यालय, मेदिनीपुर में पीएच.डी. की शोध छात्रा।कोलकाता के खुदीराम बोस कॉलेज में शिक्षण। स्वतंत्रता के 75वें वर्ष पर यह परिचर्चा है।स्वतंत्रता और लोकतंत्र के बीच एक संबंध है।गांधी ने इनके संबंध की व्याख्या तरह-तरह से की है।उन्होंने किसानों, स्त्रियों और...
पूर्वोत्तर की कविताएं : अरुणाचल प्रदेश

पूर्वोत्तर की कविताएं : अरुणाचल प्रदेश

मैमंग दई अरुणाचल प्रदेश की अंग्रेजी में लेखन करने वाली कवि- पत्रकार।कई पुस्तकें प्रकाशित। अंग्रेजी से अनुवाद :मधु सिंह युवा कवयित्री।पीएच.डी. की शोध छात्रा।खुदीराम बोस कॉलेज में शिक्षण। कोई सपना शेष नहीं दिन कुछ भी नहींरात में भी पौधे और पत्तियांधीरे-धीरे बढ़ ही जाती...
नई कविता आंदोलन और नरेश मेहता : प्रस्तुति मधु सिंह

नई कविता आंदोलन और नरेश मेहता : प्रस्तुति मधु सिंह

प्रस्तुति : मधु सिंह विद्यासागर विश्वविद्यालय, मेदिनीपुर में एम.फिल. की शोध छात्रा। कोलकाता के खुदीराम बोस कॉलेज में शिक्षण। नई कविता में परंपरागत कविता से आगे नए भावबोध की अभिव्यक्ति के साथ ही नए मूल्यों और नए शिल्प विधानों का अन्वेषण किया गया है।भाव, विचार और भाषा...