कुछ कविताएं : मणि मोहन

कुछ कविताएं : मणि मोहन

वरिष्ठ कवि और अनुवादक। चार कविता संकलन और चार अनुवाद की पुस्तकें प्रकाशित। संप्रति गंज बासौदा में अध्यापन। इतना भर ज़्यादा नहींइतना भर उठा रहूँधरती की सतह सेजैसे गेहूँ की बालियों के ऊपरखिली-खिली रहती हैं सरसोंज्यादा नहींइतना भर खिला रहूँकि मुझे निहारते हुएलड़खड़ाए...