कविता : प्रतिभा चौहान

कविता : प्रतिभा चौहान

      कविता संग्रह  ‘पेड़ों पर मछलियाँ’। न्यायाधीश, बिहार न्यायिक सेवा। कविता – एक वे आगे बढ़ते गएउन्होंने रास्ते में आई हर एक चीज़ काअपने हिसाब से रूप बदलना चाहाऔर बदल डालावे और आगे बढ़ेउन्होंने अपने समूहों को सर्वश्रेष्ठ कहाखुद को...