कविताएं  : संजय शांडिल्य

कविताएं : संजय शांडिल्य

सुपरिचित कवि।कविता-संग्रह ‘समय का पुल’, ‘लौटते हुए का होना’, ‘जाते हुए प्यार की उदासी से’।रंगकर्म से गहरा जुड़ाव।संप्रति अध्यापन। लौटना जरूरी नहींकि लौटो यथार्थ की तरहस्वप्न की भी तरहतुम लौट सकती हो जीवन मेंजरूरी नहींकि पानी की तरह लौटोप्यास की भी तरहलौट सकती हो आत्मा...