हिंदी लोकवृत्त की समस्याएं 3 : प्रस्तुति रमाशंकर सिंह

हिंदी लोकवृत्त की समस्याएं 3 : प्रस्तुति रमाशंकर सिंह

रमाशंकर सिंह भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, शिमला में 2018 से 2020 तक फेलो। समाज, संस्कृति, राजनीति पर वायर हिन्दी, क्विंट हिन्दी और जनपथ जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स पर लगातार लेखन। ‘हिंदी लोकवृत्त की समस्याएं’ विषय पर आयोजित बहस के अंतर्गत पाठकों ने अबतक अजय कुमार,...
हिंदी लोकवृत्त की समस्याएं 3 : प्रस्तुति रमाशंकर सिंह

हिंदी लोकवृत्त की समस्याएं 3 : प्रस्तुति रमाशंकर सिंह

रमाशंकर सिंह भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, शिमला में 2018 से 2020 तक फेलो। समाज, संस्कृति, राजनीति पर वायर हिन्दी, क्विंट हिन्दी और जनपथ जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स पर लगातार लेखन। ‘हिंदी लोकवृत्त की समस्याएं’ विषय पर आयोजित बहस के अंतर्गत पाठकों ने अबतक अजय कुमार,...
बहस : नई शिक्षा – कैसा प्रस्थान चाहिए

बहस : नई शिक्षा – कैसा प्रस्थान चाहिए

प्रस्तुति : मनोज मोहन हिंदी के साहित्यिक-सांस्कृतिक दुनिया में निरंतर सक्रिय। वर्तमान में सीएसडीएस की पत्रिका ‘प्रतिमान : समय समाज संस्कृति’  के संपादकीय विभाग से संबद्ध। भारतीय शिक्षा की बात करें तो उसके तीन स्तर उभर कर आते है–स्कूली शिक्षा, उच्चशिक्षा और...