कविताएं : उमेश पंकज

कविताएं : उमेश पंकज

वरिष्ठ कवि। ‘वृत्तांत’ साहित्यिक पत्रिका का संपादन। ओ पिता! मेरे भीतर बहता हैएक द्रव्य,जिसमें तुम होजंगल के बीच कलकल करतीपहाड़ी नदी की तरहभयावह समय केबेचैन क्षणों के दरम्यानपाया तुम्हीं कोसुबह की उजास की तरहअंधेरा चीरकर रास्ता दिखाते हुएपिता, ओ पिता!खौफनाक राहों से...