कविता चित्रपाठ :  मैं अकेली हूं, जिसकी क़यामत है

कविता चित्रपाठ : मैं अकेली हूं, जिसकी क़यामत है

अंग्रेजी साहित्य के क्लासिक ‘Wuthering Heights’ की रचनाकार एमिली ब्रोंटे जन्मदिन के अवसर पर वागर्थ की विशेष प्रस्तुति कविता चित्रपाठ : रचना : मैं अकेली हूं, जिसकी क़यामत है रचनाकार : एमिली ब्रोंटे आवृत्ति : प्रियंका गुप्ता अनुवाद, संयोजन एवं संपादन : उपमा...
कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

पिछले एक दशक से लेखन में सक्रिय। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और अनुवादक तोबियस वुल्फ 19 जून 1945 को जन्मे तोबियस वुल्फ़ एक अमेरिकन राइटर और क्रिएटिव राइटिंग टीचर हैं। कहानियों लिखने के साथ-साथ वुल्फ़ ने संस्मरण और उपन्यास भी लिखे हैं। लेकिन ख़ासतौर पर वे अपने संस्मरणों के...
महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

आर्थर वाली 19 अगस्त 1889-27 जून 1966इंग्लिश प्राच्य विद्वान, चीनी भाषाविद एवं अनुवादक सेंसरशिप मुश्किल नहीं हैपरदेस की खबरों को सेंसर करनाअलबत्ता मुश्किल हैखुद अपने ख्यालों को सेंसर करनाचुपचाप बैठे रहनाऔर देखना अंधे घोड़े पर सवार बूढ़े कोजो देख नहीं सकतामगर फिर भी दौड़ा...
धरोहर : बातें प्रेमचंद की

धरोहर : बातें प्रेमचंद की

महादेवी वर्मा : ‘प्रेमचंदजी के व्यक्तित्व में एक सहज संवेदना और ऐसी आत्मीयता थी, जो प्रत्येक साहित्यकार को प्राप्त नहीं होती। अपनी गम्भीर मर्मस्थर्शनी दृष्टि से उन्होंने जीवन के गंभीर सत्यों, मूल्यों का अनुसंधान किया और अपनी सहज सरलता से, आत्मीयता से उसे सब ओर...
पिता को समर्पित चार कविताएं

पिता को समर्पित चार कविताएं

रचना : मेले, रचनाकार :जावेद अख्तर रचना : दिवंगत पिता के लिए, रचनाकार :सर्वेश्वर दयाल सक्सेना रचना : पिता से गले मिलते, रचनाकार :कुंवर नारायण रचना : चाय पीते हुए, रचनाकार :अज्ञेय संयोजन एवं संपादन :उपमा ऋचा प्रस्तुति : वागर्थ,भारतीय भाषा परिषद् उपमा ऋचा, प्रियंका...