संपादकीय जून 2022 : एलीट विमर्श और लोकमन-2

संपादकीय जून 2022 : एलीट विमर्श और लोकमन-2

शंभुनाथ एक लोक वह रहा है जिसमें संदेह करने, प्रश्न करने, सृष्टि से प्रेम करने और मिल-जुलकर रहने के महान गुण थे।मेगस्थनीज (300 ईसा पूर्व) ने अपने यात्रा वृत्तांत में बताया है कि उनके समय का लोक कैसा था।राजा जिस समय कहीं युद्ध लड़ रहे होते थे, पास में कृषक अपनी जमीन पर...
सांस्कृतिक यात्रा

सांस्कृतिक यात्रा

भारतीय भाषा परिषद में युवा लेखन कार्यशाला भारतीय भाषा परिषद में युवा लेखन कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए परिषद की अध्यक्ष डॉ. कुसुम खेमानी ने कहा कि युवा लेखन ही हिंदी का भविष्य है।इस कार्यक्रम से सैकड़ों युवा प्रतिभाओं को मार्गदर्शन मिलेगा और भाषा सुधार के साथ उनकी...
कविताएं  : नेहा नरूका

कविताएं : नेहा नरूका

 युवा कवयित्री।संपादित काव्य संग्रह ‘सातवां युवा द्वादश’ में कविताएं संगृहीत।असिस्टेंट प्रो़फेसर पद पर कार्यरत। शक्कर से जरा बचकर रहना मेरी दोस्त जब कोई तुमसेसिर्फ फूल-पत्तियों की बातें करेतो सतर्क हो जानाज्यादा मीठा बोलने वालेअकसर सबके हिस्से की मिठाई खुद खा जाते हैं...
समझौता नहीं : सिद्धेश

समझौता नहीं : सिद्धेश

वरिष्ठ कहानीकार। कई कहानी संग्रह और बांग्ला से कई पुस्तकों का हिंदी में अनुवाद प्रकाशित। सामने वाले घर में दो युवक सुबह से काम पर लग जाते थे।एक बाहर के चबूतरे पर झाड़ू लगाता, दूसरा पानी से धोता।घर में औरतें नजर नहीं आतीं।दोनों जवान थे।मगर शादी नहीं की।एक मां थी जो...
उनको प्रणाम! : नागार्जुन

उनको प्रणाम! : नागार्जुन

रचना आवृत्ति : प्रियंका गुप्ताध्वनि संयोजन : अनुपमा ऋतुदृश्य संयोजन-संपादन : उपमा ऋचा प्रस्तुति : वागर्थ, भारतीय भाषा पारिषद कोलकाता अनुपमा ऋतु, उपमा ऋचा, प्रियंका...