आलेख
थेरी गाथा-स्त्री मुक्ति की आदिकथा : विभा ठाकुर

थेरी गाथा-स्त्री मुक्ति की आदिकथा : विभा ठाकुर

    कालिंदी कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय में सहायक प्रो़फेसर। थेरीगाथा प्रथम प्रतिश्रुति के रूप में स्त्री गाथा का जीवित दस्तावेज है।धर्मशास्त्रों का हवाला देकर पितृसत्तात्मक समाज ने बहुत समय तक स्त्रियों को ज्ञान के अधिकार से वंचित रखा था।नारी को माया कहा...

read more
शिवप्रसाद ‘सितारेहिंद’ की इतिहास दृष्टि तिमिर नाशक या तिमिरवर्धक : संजय कुमार

शिवप्रसाद ‘सितारेहिंद’ की इतिहास दृष्टि तिमिर नाशक या तिमिरवर्धक : संजय कुमार

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में शोध छात्र। राजा शिवप्रसाद ‘सितारेहिंद’ (1823-1895) का लेखन अपने समय के अंतर्विरोधों से घिरा नजर आता है।नवजागरण के आगोश में नित नए चिंतन तथा नई खोजों के दौर में उनके लेखन में किसी एक दृष्टि का बोलबाला नहीं है, बल्कि घटनाएं, परिस्थितियां...

read more
आदिवासियों की भाषा ही अब उनका तीर है : मृत्युंजय

आदिवासियों की भाषा ही अब उनका तीर है : मृत्युंजय

प्रबुद्ध लेखक, रंगकर्मी और संस्कृतिकर्मी। गुजरात के आदिवासी कवि हैं चामूकाल राठवा।उनकी एक कविता ‘आदिवासी’ का एक अंश है, ‘इस शब्द को वे/इस तरह बोलते हैं/जैसे यह किसी/ महामारी का नाम हो/...इस शब्द को सुनकर/वे ऐसे देखते हैं/जैसे उन्होंने/आकाश में उड़ती/रकाबी देख ली हो।’...

read more
आदिवासी होने का अर्थ : मीनाक्षी नटराजन, अनुवाद :अवधेश प्रसाद सिंह

आदिवासी होने का अर्थ : मीनाक्षी नटराजन, अनुवाद :अवधेश प्रसाद सिंह

सोशल एक्टिविस्ट, पूर्व लोकसभा सदस्य (म.प्र.) लेखक, भाषाविद एवं अनुवादक. जब नेहरू से पूछा गया कि आदिवासियों के प्रति भारत का रुख क्या होना चाहिए तो उन्होंने कहा, ‘विनम्रता’। 1931 में, जनगणना आयुक्त जे.एच. हट्टन ने यह सुझाव दिया कि आदिवासी समुदायों की मान्यताओं की रक्षा...

read more
स्त्री-विमर्श का सच : चंद्रभान सिंह यादव

स्त्री-विमर्श का सच : चंद्रभान सिंह यादव

युवा आलोचक। ‘मीडिया और आधी आबादी का सच’ पर पोस्ट डॉक्टरल रिसर्च। जॉन स्टुअर्ट मिल की रचना ‘द सब्जेक्सन ऑफ़ विमेन’ के अनुसार,  स्त्री और पुरुष के बीच शारीरिक विषमताएं अवश्य हैं, किंतु बौद्धिक क्षमता में दोनों बराबर हैं। सीबीएससी, प्रादेशिक बोर्ड या सिविल सेवाओं के...

read more
प्रसाद और छायावाद – साधारण में छिपे असाधारण की खोज : विनोद शाही

प्रसाद और छायावाद – साधारण में छिपे असाधारण की खोज : विनोद शाही

वरिष्ठ आलोचक और नाटककार।आलोचना की लगभग तीस पुस्तकें।अद्यतन पुस्तक ‘संस्कृति और राजनीति’। जयशंकर प्रसाद छायावाद के प्रवर्तक भी हैं और उसका शिखर भी।उनके छायावाद को समझना, एक तरह से हिंदी छायावाद की मूल प्रकृति को समझने जैसा है।प्रसाद ने छायावाद की जो जमीन तैयार की, उसे...

read more
स्त्री के अंतर्लोक का वैभव : आशीष मिश्र

स्त्री के अंतर्लोक का वैभव : आशीष मिश्र

युवा आलोचक। और साहित्यिक-सांस्कृतिक रूप से निरंतर सक्रिय। क्या हो यदि किसी दिन कोई आपसे कहे कि अबतक का समग्र ज्ञान पुरुषों द्वारा अपनी कामनाओं के औचित्य-स्थापन की प्रक्रिया भर है? शायद एक बारगी आप इसे स्वीकार नहीं कर पाएंगे कि ज्ञान भी स्त्री-पुरुष का भेद कर सकता...

read more
रामविलास शर्मा के पत्र : संतोष शर्मा

रामविलास शर्मा के पत्र : संतोष शर्मा

रसायनशास्त्री और पूर्व-शिक्षक। रामविलास शर्मा की पुत्रवधू। पति विजयमोहन शर्मा के साथ एक पुस्तक का संपादन पत्रों के महत्व को रामविलास जी ने बहुत पहले ही पहचान लिया था। उन्होंने जान लिया था कि पत्रों में एक उष्मा होती है जो पढ़ने वाले को अभिभूत करती है और इनमें दी गई...

read more
सीमांत का सौंदर्य और विषाद : आशीष मिश्र

सीमांत का सौंदर्य और विषाद : आशीष मिश्र

युवा आलोचक। और साहित्यिक-सांस्कृतिक रूप से निरंतर सक्रिय।किसी युग के काव्य-वैशिष्ट्य को चिह्नित करते हुए यह ज़रूर देखना चाहिए कि वे कविताएँ ग्रामीण संवेदना को कैसे अभिव्यक्त करती हैं| इससे उनकी जनोन्मुखता, सामुदायिकता, इंद्रियबोध, पारिस्थितिक गहनता, वाचिकता, जीवंतता...

read more
सोच का एक दूसरा रास्ता हमेशा होता है : अब्दुलरजाक गुरना का विचारलोक

सोच का एक दूसरा रास्ता हमेशा होता है : अब्दुलरजाक गुरना का विचारलोक

लेखक और अनुवादक। यूनिवर्सिटी ऑफ केंट से अंग्रेजी और उत्तर-औपनिवेशिक साहित्य के रिटायर्ड प्रोफेसर अब्दुलरजाक गुरना का जन्म 1948 में तंजानिया के जंजीबार में हुआ था| 1960 के दशक में परिस्थितियों ने उनके नाम के साथ शरणार्थी की पहचान जोड़ दी| उसी पहचान को लेकर वे यूनाइटेड...

read more
सत्यजीत राय के  सिनेमा में रवींद्रनाथ ठाकुर की छाया : सुरभि विप्लव

सत्यजीत राय के सिनेमा में रवींद्रनाथ ठाकुर की छाया : सुरभि विप्लव

सहायक प्रोफेसर, प्रदर्शनकारी कला विभाग, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्व विद्यालय, वर्धा ‘बहु दिन धरे, बहु कोश दुरेबहु व्यय कोरे, बहु देश घुरेदेखते गियेछि पर्वत-माला, देखते गियेछि शिंधुदेखा होए ना चक्षु मेलियाघर होते शुधु दुई पा फेलियासारा देश घुरे, देखा होए न...

read more
नीलेश रघुवंशी – स्त्री कविता का भूगोल : आशीष मिश्र

नीलेश रघुवंशी – स्त्री कविता का भूगोल : आशीष मिश्र

युवा आलोचक। और साहित्यिक-सांस्कृतिक रूप से निरंतर सक्रिय। नीलेश रघुवंशी का जन्म विदिसा के कस्बा‘गंज बासौदा’ में हुआ। बासौदा का इतिहास मालवा के पठारी भूगोल में बहुत गहरे धंसा हुआ है। नीलेश का आरंभिक भावबोध बासौदा के कस्बाई जीवन-अनुभवों में आकार लेता है। इसमें आठ बहनों,...

read more
रामविलास शर्मा के पत्र : संतोष शर्मा

रामविलास शर्मा के पत्र : संतोष शर्मा

रसायनशास्त्री और पूर्व-शिक्षक। रामविलास शर्मा की पुत्रवधू। पति विजयमोहन शर्मा के साथ एक पुस्तक का संपादन पत्रों के महत्व को रामविलास जी ने बहुत पहले ही पहचान लिया था। उन्होंने जान लिया था कि पत्रों में एक उष्मा होती है जो पढ़ने वाले को अभिभूत करती है और इनमें दी गई...

read more
निराला की दृष्टि में भाषा और जातीयता : कृष्णदत्त शर्मा

निराला की दृष्टि में भाषा और जातीयता : कृष्णदत्त शर्मा

(1942- 2021)। दिल्ली विश्वविद्यालय के दक्षिण परिसर से 2007 में सेवानिवृत्त। पश्चिमी साहित्यशास्त्र के विशेषज्ञ। कोरोना की दुखद चपेट में असामयिक मृत्यु। अंग्रेज़ी के एक बड़े आलोचक ने भाषा को मानव-मन के ऐसे ‘शस्त्रागार’ की संज्ञा दी है, ‘जिसमें अतीत के विजय-स्मारक और भावी...

read more
शब्दों की आड़ में अर्थों का दुखांत : उपमा ऋचा

शब्दों की आड़ में अर्थों का दुखांत : उपमा ऋचा

पिछले एक दशक से लेखन में सक्रिय। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और अनुवादक 'शब्दों पर बात करने के लिए शब्दों का प्रयोग करना ठीक वैसा ही है जैसा कि पेंसिल का चित्र बनाने के लिए पेंसिल का इस्तेमाल करना। एक निहायत ही मुश्किल, पेचीदा और गुमराह करने वाली कवायद!' -पैट्रिक रूथफ़्स...

read more
मलूकदास की चिंता और अकाल : आलोक कुमार पाण्डेय

मलूकदास की चिंता और अकाल : आलोक कुमार पाण्डेय

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा  में शोधार्थी। मलूकदास (17वीं सदी) का पारिवारिक धंधा व्यापार था, जिसमें प्रायः उनका मन नहीं लगता था । वे अपने समाज में व्याप्त अनेक प्रकार की दुश्वारियों से दो-चार हो रहे थे । न केवल उनका काव्य, बल्कि वैयक्तिक...

read more
सत्यजीत राय के  सिनेमा में रवींद्रनाथ ठाकुर की छाया : सुरभि विप्लव

सत्यजीत राय के सिनेमा में रवींद्रनाथ ठाकुर की छाया : सुरभि विप्लव

सहायक प्रोफेसर, प्रदर्शनकारी कला विभाग, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्व विद्यालय, वर्धा ‘बहु दिन धरे, बहु कोश दुरेबहु व्यय कोरे, बहु देश घुरेदेखते गियेछि पर्वत-माला, देखते गियेछि शिंधुदेखा होए ना चक्षु मेलियाघर होते शुधु दुई पा फेलियासारा देश घुरे, देखा होए न...

read more
नीलेश रघुवंशी – स्त्री कविता का भूगोल : आशीष मिश्र

नीलेश रघुवंशी – स्त्री कविता का भूगोल : आशीष मिश्र

युवा आलोचक। और साहित्यिक-सांस्कृतिक रूप से निरंतर सक्रिय। नीलेश रघुवंशी का जन्म विदिसा के कस्बा‘गंज बासौदा’ में हुआ। बासौदा का इतिहास मालवा के पठारी भूगोल में बहुत गहरे धंसा हुआ है। नीलेश का आरंभिक भावबोध बासौदा के कस्बाई जीवन-अनुभवों में आकार लेता है। इसमें आठ बहनों,...

read more
प्रसाद और छायावाद – साधारण में छिपे असाधारण की खोज : विनोद शाही

प्रसाद और छायावाद – साधारण में छिपे असाधारण की खोज : विनोद शाही

विनोद शाही वरिष्ठ आलोचक और नाटककार। आलोचना की लगभग तीस पुस्तकें। अद्यतन पुस्तक ‘संस्कृति और राजनीति’। जयशंकर प्रसाद छायावाद के प्रवर्तक भी हैं और उसका शिखर भी। उनके छायावाद को समझना, एक तरह से हिंदी छायावाद की मूल प्रकृति को समझने जैसा है। प्रसाद ने छायावाद की जो जमीन...

read more
कविता का कोरोना काल : जयश्री सिंह

कविता का कोरोना काल : जयश्री सिंह

मुंबई विश्वविद्यालय में सहायक प्राध्यापक। ताजा किताब ‘भय आक्रांत’(कथेतर गद्य)।  इस समय पूरा विश्व एक बड़ी त्रासदी से गुजर रहा है। देशों की उन्नत सभ्यताओं को एक अदृश्य वायरस ने बौना कर दिया है। मध्यम वर्गीय परिवार का व्यक्ति आज फिर से संघर्ष के उसी बिंदु पर आ कर...

read more