अनुवाद
कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

पिछले एक दशक से लेखन में सक्रिय। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और अनुवादक तोबियस वुल्फ 19 जून 1945 को जन्मे तोबियस वुल्फ़ एक अमेरिकन राइटर और क्रिएटिव राइटिंग टीचर हैं। कहानियों लिखने के साथ-साथ वुल्फ़ ने संस्मरण और उपन्यास भी लिखे हैं। लेकिन ख़ासतौर पर वे अपने संस्मरणों के...

read more
महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

आर्थर वाली 19 अगस्त 1889-27 जून 1966इंग्लिश प्राच्य विद्वान, चीनी भाषाविद एवं अनुवादकसेंसरशिप मुश्किल नहीं हैपरदेस की खबरों को सेंसर करनाअलबत्ता मुश्किल हैखुद अपने ख्यालों को सेंसर करनाचुपचाप बैठे रहनाऔर देखना अंधे घोड़े पर सवार बूढ़े कोजो देख नहीं सकतामगर फिर भी दौड़ा...

read more
मलयालम कविता रात की बारिश : सुगाथाकुमारी, अनुवाद : बालमुकुन्द नंदवाना

मलयालम कविता रात की बारिश : सुगाथाकुमारी, अनुवाद : बालमुकुन्द नंदवाना

कवि और अनुवादक सुगाथाकुमारी प्रख्यात मलयालम कवयित्री, पर्यावरणविद और महिला कार्यकर्ता, 86 वर्षीया पद्मश्री सुगाथाकुमारी का कोरोना महामारी से थिरुवनंतपुरम में 23 दिसंबर 2020 को निधन हो गया।उनकी प्रसिद्ध कविता Night Rain  का हिंदी अनुवाद - रात की बारिशकिसी पागल...

read more
दो कविताएँ  : दिलीप दर्श

दो कविताएँ : दिलीप दर्श

      बैंक कर्मी। दो पुस्तकें ‘सुनो कौशिकी’ (कविता संग्रह), ‘उनचास का पचास’ (कहानी संग्रह) प्रकाशित।जो किसी को याद नहीं रखता तुम अभी भाषा में मुझे नहीं पा सकोगेक्योंकि मैं जो भी हूँ अभी भाषा में नहीं हूँफिर भी तुम बार-बार मुझे वहीं ढूंढते होशायद तुम्हें...

read more
छत्तीसगढ़ी कविताएँ  : एकांत श्रीवास्तव

छत्तीसगढ़ी कविताएँ : एकांत श्रीवास्तव

सुपरिचित कवि।‘वागर्थ’ का लंबे समय तक संपादन। अद्यतन आलोचना पुस्तक ‘आधुनिक हिंदी कविता और काव्यानुभूति’। संप्रति दिल्ली में शासकीय सेवा में। प्यास कभी दाहरा के तट जाता हूँ कभी नदिया के पास कैसी यह प्यास है यह प्यास नहीं बुझती समुद्र के पास जाने के बारे में सोचता हूँ...

read more
पंजाबी कविता 1  : सुरजीत पातर / अनुवाद : रावेल पुष्प

पंजाबी कविता 1 : सुरजीत पातर / अनुवाद : रावेल पुष्प

सुरजीत पातर पंजाबी के वरिष्ठतम कवियों-लेखकों में एक। काफी लोकप्रिय। साहित्य अकादेमी, भारतीय ज्ञानपीठ और भारतीय भाषा परिषद के पुरस्कारों से सम्मानित। पद्मश्री प्राप्त। रावेल पुष्प कोलकाता के वरिष्ठ रचनाकार और पत्रकार।  कविता संग्रह ‘मुझे गर्भ में ही मार डालो’, यात्रा...

read more
पंजाबी कविता 2  : गुरभजन गिल / अनुवाद : रावेल पुष्प

पंजाबी कविता 2 : गुरभजन गिल / अनुवाद : रावेल पुष्प

गुरभजन गिल लुधियाना के जनप्रिय पंजाबी कवि। कविताओं और गजलों के कई संग्रह। बलराज साहनी मेमोरियल अवार्ड से सम्मानित। रावेल पुष्प कोलकाता के वरिष्ठ रचनाकार और पत्रकार।  कविता संग्रह ‘मुझे गर्भ में ही मार डालो’, यात्रा संस्मरण, ‘मेरी बांग्लादेश यात्रा’। युगल किशोर सुकुल...

read more
महामारी के समय में : एन. स्कॉट मोमादे/ अनुवाद : उपमा ॠचा

महामारी के समय में : एन. स्कॉट मोमादे/ अनुवाद : उपमा ॠचा

नेटिव अमरीकन नस्ल ‘किओबा’ मूल के उपन्यासकार, लघुकथा लेखक और कवि। नेटिव अमरीकन रिनेंसा की पहली महत्वपूर्ण कृति ‘हाउस मेड ऑफ डान’ लिखने के लिए 1969 में पुलित्ज़र प्राइज़ से सम्मानित।इन दिनों हम घरों के अंदर रहते हैंजब बाहर निकलने का जोखिम उठाते हैंतो पूरी तरह चौकन्ना...

read more
पंजाबी कविता 3  : जसविंदर / अनुवाद : रावेल पुष्प

पंजाबी कविता 3 : जसविंदर / अनुवाद : रावेल पुष्प

जसविंदर पंजाबी कवि और गजलकार। कविता संग्रह ‘अगरबत्ती’ के लिए इसी साल साहित्य अकादेमी पुरस्कार। रावेल पुष्प कोलकाता के वरिष्ठ रचनाकार और पत्रकार।  कविता संग्रह ‘मुझे गर्भ में ही मार डालो’, यात्रा संस्मरण, ‘मेरी बांग्लादेश यात्रा’। युगल किशोर सुकुल पत्रकारिता सम्मान।...

read more
पंजाबी कविता 4  : गुरिंदर सिंह कलसी  / अनुवाद : रावेल पुष्प

पंजाबी कविता 4 : गुरिंदर सिंह कलसी / अनुवाद : रावेल पुष्प

गुरिंदर सिंह कलसी वरिष्ठ पंजाबी कवि, चित्रकार और मोरिंडा (पंजाब) में शिक्षक। कई काव्य संकलन प्रकाशित। रावेल पुष्प कोलकाता के वरिष्ठ रचनाकार और पत्रकार।  कविता संग्रह ‘मुझे गर्भ में ही मार डालो’, यात्रा संस्मरण, ‘मेरी बांग्लादेश यात्रा’। युगल किशोर सुकुल पत्रकारिता...

read more
कोरोना काल की अमरीकी कविताएं, अनुवाद : उपमा ॠचा

कोरोना काल की अमरीकी कविताएं, अनुवाद : उपमा ॠचा

लेखक और अनुवादक। एलिज़ाबेथ बिशप अमरीकन लेखिका एवं कवयित्री। 1956 में पुलित्ज़र प्राइज़, 1970 में नेशनल बुक एवार्ड और 1976 में इंटरनेशनल प्राइज़ फॉर लिटरेचर से सम्मानित। एक कला खोने की कला में सिद्धहस्त होना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है कितनी सारी चीजें खो जाने के इरादे से इस...

read more
शेषराव पीरजी धांडे की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

शेषराव पीरजी धांडे की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

कविता, शार्ट फिल्म, पत्रकारिता, अनुवाद में रुचि। प्रकाशित कविता संग्रह- ‘सफेद लोग’। मराठी के चर्चित दलित कवि। अद्यतन कविता संग्रह ‘बिघडलेले होकयंत्र’1-कॉकटेल गुटबाजी की राजनीति देखकरअब हम थक गए हैं बहुतआखिर मैंनेसारे के सारे आंदोलनों कोगिलास में डालकरघूंट दर घूंटहलक...

read more
शशिकांत हिंगोनेकर की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

शशिकांत हिंगोनेकर की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

कविता, शार्ट फिल्म, पत्रकारिता, अनुवाद में रुचि। प्रकाशित कविता संग्रह- ‘सफेद लोग’। शिक्षा अधिकारी। मराठी काव्य संगह ‘ॠतुपर्व’ महाराष्ट्र सरकार द्वारा पुरस्कृत। 1-मेरा सवेरा मेरे लिए निषिद्धघोषित किए जा रहे हैंफिर भी केंचुओं की सुगबुगाहट सेनहीं है मुझे भयमैंने रास्ते...

read more
जापानी कहानी : फैक्टरी टाउन

जापानी कहानी : फैक्टरी टाउन

बेत्सुयाकू मिनोरु युद्धोपरांत जापान के एक प्रमुख नाटककार, उपन्यासकार और लेखक। जापान में ‘एब्सर्ड थियेटर की स्थापना में सहायक।अंग्रेजी से हिंदी रूपांतरण : विजय शर्मा प्रमुख समीक्षक और अनुवादक। आलोचना पुस्तक  : ‘क्षितिज के उस पार से’ एक दिन, बस यूं ही, एक छोटी-सी...

read more
दारला वेंकटेश्वरा राव की तेलुगु कविता : यहाँ जन्म लेना क्या अपराध है ?, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

दारला वेंकटेश्वरा राव की तेलुगु कविता : यहाँ जन्म लेना क्या अपराध है ?, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

दारला वेंकटेश्वरा राव : तेलुगु के प्रसिद्ध दलित कवि। भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा डॉ. आंबेडकर नेशनल एवार्ड से सम्मानित।अवधेश प्रसाद सिंह : लेखक, अनुवादक एवं भाषाविदमेरी रीढ़ की हड्डियाँ कांप उठती हैंजब कोई मेरे जन्म पर टिप्पणी करता हैमुझे नहीं पता कितने मत...

read more
लोकनाथ यशवंत की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

लोकनाथ यशवंत की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

कविता, शार्ट फिल्म, पत्रकारिता, अनुवाद में रुचि। प्रकाशित कविता संग्रह- ‘सफेद लोग’। सुपरिचित मराठी दलित कवि। आठ कविता-संग्रह प्रकाशित। दलित आंदोलन से भी संबद्ध।1-लैंडस्केप कितना आनंददायी होता हैकैनवास पर सूर्योदय की पेंटिंग करनावैसे ही सूर्यास्त का भीविशाल लैंडस्केप...

read more
एंदलुरी सुधाकर की तेलुगु कविता : आत्मकथा, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

एंदलुरी सुधाकर की तेलुगु कविता : आत्मकथा, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

एंदलुरी सुधाकर : व्यापक रूप से सम्मानित तेलुगु दलित कवि, प्रोफेसर और अनुवादक। अपनी विशेष शैली के लिए विख्यात। येशुवा स्मृति पुरस्कार से सम्मानित।अवधेश प्रसाद सिंह : लेखक, अनुवादक एवं भाषाविदमेरी आत्मकथा का विमोचनएक भव्य भवन में किया गयाखुले मंच पर किया गया मेरा...

read more
वेमुला येल्लैया की तेलुगु कविता : श्मशान की दुर्गंध, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

वेमुला येल्लैया की तेलुगु कविता : श्मशान की दुर्गंध, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

वेमुला येल्लैया : तेलुगु के प्रमुख समकालीन दलित लेखकों में। एक कविता संग्रह के अतिरिक्त ‘कक्का’ और ‘सिद्दी’ दो दलित उपन्यास प्रकाशित।अवधेश प्रसाद सिंह : लेखक, अनुवादक एवं भाषाविदमैं वह हूँ जो शवों को जलाता हैलकड़ी की मदद से जलते शरीर कोचिता में धकियाता हैजलती चिता की...

read more
ईरानी कहानी इंतजार : सईद यवाकोल

ईरानी कहानी इंतजार : सईद यवाकोल

अंग्रेजी से हिंदी रूपांतरण : विजय शर्मा प्रमुख समीक्षक और अनुवादक। आलोचना पुस्तक  : ‘क्षितिज के उस पार से’ हर महीने की तरह वह अपने बेटे के पास आया है। खाली कमरे में अकेले बैठे हुए वह अपने मोटे शीशे के चश्में से ईरानी कालीन की पुरानी आत्मा में बुने हुए बदरंग फूलों को...

read more
मराठी कविता क्रूरता : नामदेव ढसाल/ अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

मराठी कविता क्रूरता : नामदेव ढसाल/ अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

लेखक, भाषाविद और अनुवादक (1949-2014)। प्रसिद्ध मराठी कवि। दलित पैंथर आंदोलन के संस्थापक। अपने प्रथम कविता संग्रह ‘गोलपीठा’ से ही चर्चित।   मैं भाषा के गुप्तांग मेंयौन रोग से पैदा हुआ घाव हूँहजारों उदास दयनीय आंखों सेझांक रही जीवित आत्मा नेमुझे कंपकंपा दिया हैअपने...

read more