अनुवाद
आदिवासी होने का अर्थ : मीनाक्षी नटराजन, अनुवाद :अवधेश प्रसाद सिंह

आदिवासी होने का अर्थ : मीनाक्षी नटराजन, अनुवाद :अवधेश प्रसाद सिंह

सोशल एक्टिविस्ट, पूर्व लोकसभा सदस्य (म.प्र.) लेखक, भाषाविद एवं अनुवादक. जब नेहरू से पूछा गया कि आदिवासियों के प्रति भारत का रुख क्या होना चाहिए तो उन्होंने कहा, ‘विनम्रता’। 1931 में, जनगणना आयुक्त जे.एच. हट्टन ने यह सुझाव दिया कि आदिवासी समुदायों की मान्यताओं की रक्षा...

read more
नेटिव अमरीकी कविता- एन. स्कॉट मोमादे

नेटिव अमरीकी कविता- एन. स्कॉट मोमादे

(जन्म :1934) किओवा इंडियन विरासत के प्रमुख देशी अमरीकी कवि।देशी अमरीकी साहित्य में नवजागरण के अग्रदूत।पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित।सोइ-टाली का गीत मैं हूँ उजले आसमान का एक पंखएक नीला घोड़ा दौड़ता हुआ मैदान मेंमैं हूँ मछली जो तैरते हुए चमक रही है जल मेंमैं हूँ एक बच्चे...

read more
अमरीकी कविता-1 ज्वॉय हारजो

अमरीकी कविता-1 ज्वॉय हारजो

(जन्म :1951) आदिवासी कवयित्री तथा एकेडमी ऑफ अमेरिकन पोएट्स की चांसलर तथा ख्यातिप्राप्त एमविस्कोक क्रीक नेशन की सदस्य।उनकी अनेक पुस्तकों ने सराहना अर्जित की है।याद रखो याद करो उस आकाश कोजिसके नीचे तुम पैदा हुए होजानो हर तारे की कहानीयाद करो चांद को जानो कि वह कौन हैयाद...

read more
जर्मन कहानी जेनेवा झील के किनारे : स्टीफान ज्वाइग, अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी

जर्मन कहानी जेनेवा झील के किनारे : स्टीफान ज्वाइग, अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी

स्टीफान ज्वाइग (1881-1942)।अपने समय के प्रसिद्ध जर्मन उपन्यासकार, नाटककार व जर्नलिस्ट।प्रमुख रचनाएं ‘द रॉयल गेम’, ‘अमोक’, ‘लेटर फ्रॉम एन अननोन वुमेन’, ‘कनफ्यूज़न’ आदि।22 फरवरी 1942 में आत्महत्या कर ली थी। अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी 1984 से जर्मन भाषा की शिक्षक। जर्मन...

read more
मैं ‘फेमिनिस्ट’ लफ़्ज़ को जानने से पहले ही ‘फेमिनिस्ट’ बन चुकी थी!

मैं ‘फेमिनिस्ट’ लफ़्ज़ को जानने से पहले ही ‘फेमिनिस्ट’ बन चुकी थी!

अरबी-भाषा के कई प्रकाशनों और न्यूयार्क टाइम्स, वाशिंगटन पोस्ट, द गार्जियन आदि के लिए नियमित लिखने वाली मोना एल्तहावी एक प्रमुख अमेरिकी आप्रवासी लेखिका और पत्रकार हैं।स्त्री अधिकारों की एक प्रबल समर्थक।इनकी रचनाओं में अरब संसार में स्त्री के स्थान और स्थिति का बयान...

read more
मलयालम कविताएं  : अय्यप्पा पणिक्कर. अनुवाद : अनामिका अनु

मलयालम कविताएं : अय्यप्पा पणिक्कर. अनुवाद : अनामिका अनु

युवा कवयित्री। केरल में कार्यरत। काव्य संग्रह : ‘इंजीकरी’। अय्यप्पा पणिक्कर साहित्य अकादमी और सरस्वती सम्मान से सम्मानित अय्यप्पा पणिक्कर केरल के एक महत्वपूर्ण कवि हैं।उन्हें मलयालम कविता में आधुनिकता का अग्रदूत माना जाता है।उनकी कृति ‘कुरुक्षेत्रम’ ने मलयालम कविता...

read more
बांग्ला कविता  : जय गोस्वामी/ अनुवाद : उत्पल बैनर्जी

बांग्ला कविता : जय गोस्वामी/ अनुवाद : उत्पल बैनर्जी

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित बांग्ला के सुप्रसिद्ध कवि। कवि, अनुवादक।कविता-संग्रह: ‘लोहा बहुत उदास है’ प्रकाशित।बांग्ला से हिंदी में अनूदित 13 पुस्तकें प्रकाशित।इंदौर में निवास। 1-आया हूँ सूर्यास्त से सूर्यास्त से आया हूँ सूखे पत्तों की धरती परजिन सब पेड़ों के पत्ते...

read more
असमिया कविताएं – अनुवाद : देवेंद्र कुमार देवेश / रूमी लश्कर बोरा

असमिया कविताएं – अनुवाद : देवेंद्र कुमार देवेश / रूमी लश्कर बोरा

हरेकृष्ण डेका जन्म : 1941।असमिया कवि, कथाकार और आलोचक।साहित्य अकादेमी पुरस्कार, कथा पुरस्कार तथा असमिया साहित्यिक पुरस्कार (2010) सहित अनेक सम्मान प्राप्त।दो दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।किसका ईश्वर आपमें से किसी को यदिईश्वर का पता मिलेमुझे बतानाऔर मैं उसके पास...

read more
फैसला : रूमी लश्कर बोरा, अनुवाद : देवेंद्र कुमार देवेश

फैसला : रूमी लश्कर बोरा, अनुवाद : देवेंद्र कुमार देवेश

सुपरिचित कवि।अद्यतन संपादित कहानी संग्रह ‘कोसी की नई जमीन’।साहित्य अकादेमी पूर्वी क्षेत्र के सचिव। रूमी लश्कर बोरा असमिया की सुपरिचित लेखिका एवं सामाजिक कार्यकर्ता।एक दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।जरूरत से कहीं अधिक ही सेवा की थी सिस्टर सुकन्या ने।ड्यूटी के लिए...

read more
नाबो-अश्वेत व्यक्ति जिसने फरिश्तों से प्रतीक्षा करवाई : गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़, अनुवाद : मंजुला वालिया

नाबो-अश्वेत व्यक्ति जिसने फरिश्तों से प्रतीक्षा करवाई : गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़, अनुवाद : मंजुला वालिया

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया सेस्वैच्छिक सेवानिवृत्ति। वर्तमान में NGO ‘संवेदना’ और CAGE से संबद्ध। गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़ (1928-2014) नोबेल पुरस्कार से सम्मानित विश्व प्रसिद्ध लैटिन अमेरिकी कथाकार।प्रसिद्ध उपन्यास है ‘एकांत के सौ वर्ष’ (वन हंड्रेड इयर्स ऑफ...

read more
मलयालम कविता रात की बारिश : सुगाथाकुमारी, अनुवाद : बालमुकुन्द नंदवाना

मलयालम कविता रात की बारिश : सुगाथाकुमारी, अनुवाद : बालमुकुन्द नंदवाना

कवि और अनुवादक सुगाथाकुमारी प्रख्यात मलयालम कवयित्री, पर्यावरणविद और महिला कार्यकर्ता, 86 वर्षीया पद्मश्री सुगाथाकुमारी का कोरोना महामारी से थिरुवनंतपुरम में 23 दिसंबर 2020 को निधन हो गया।उनकी प्रसिद्ध कविता Night Rain  का हिंदी अनुवाद -रात की बारिशकिसी पागल...

read more
ओड़िया कविता मैं लौट क्यों आती हूँ : सुचेता मिश्र, ओड़िया से अनुवाद : राजेंद्र प्रसाद मिश्र

ओड़िया कविता मैं लौट क्यों आती हूँ : सुचेता मिश्र, ओड़िया से अनुवाद : राजेंद्र प्रसाद मिश्र

ओड़िशा साहित्य अकादमी पुरस्कार से पुरस्कृत कवयित्री। एक निबंध संग्रह और दो उपन्यास प्रकाशित। वरिष्ठ अनुवादक।पक्षियों को दाना चुगा सकती हूँरसोई में नमक की तरह रह सकती हूँगिरते तारों को आंचल में सहेज सकती हूँतभी तोबार-बार कविता तक आती हूँ तुम पैर पटकते होपैंफलेट छापते...

read more
मराठी कविताएं : वसंत आबाजी डहाके, मराठी से अनुवाद : प्रेरणा उबाले

मराठी कविताएं : वसंत आबाजी डहाके, मराठी से अनुवाद : प्रेरणा उबाले

युवा कवयित्री। प्रकाशित कविता संग्रह : मन ओथंबून जाते (मराठी), टूटन बढ़ती जाती (हिंदी)। सहायक प्राध्यापक, विज्ञान और वाणिज्य महाविद्यालय, पुणे। प्रसिद्ध मराठी कवि। अद्यतन कविता संग्रह 'कर्क वृत्त'। 'चित्रलिपि' कविता संग्रह के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार। बढ़ती उम्र...

read more
बांग्ला कविताएं : शंख घोष, बांग्ला से हिंदी अनुवाद : रोहित प्रसाद पथिक

बांग्ला कविताएं : शंख घोष, बांग्ला से हिंदी अनुवाद : रोहित प्रसाद पथिक

युवा कवि, अनुवादक व चित्रकार। संप्रति : अनुगूँज अर्ध-वार्षिक साहित्यिक पत्रिका के संपादक। शंख घोष  (5 फरवरी 1932  - 21 अप्रैल 2021) एक प्रमुख भारतीय बंगाली कवि और साहित्यिक आलोचक थे। वह एक प्रमुख रवींद्र विशेषज्ञ और शक्तिशाली लेखक थे। बंगला भाषा में लिखित "दिनगुली-...

read more
पंजाबी कविताएं  : नरेंद्र कुमार

पंजाबी कविताएं : नरेंद्र कुमार

पंजाबी और हिंदी, दोनों भाषाओं में लेखन। वो रोज टीवी देखते थे थे वे हमारे जैसे हीलेकिन हमारे साथ नहींअलग खड़े थेहमारे साथ खेले थे, हम साथ पढ़े थेहम सबकी समस्याएं एक जैसी थींहालात लगभग एक जैसे थेन ही वे सरकार थेन वे मक्कार थेलेकिन जब हमने अपने वर्तमानऔर भविष्य को संवारना...

read more
महाभारत के आख्यान पर स्त्रीवादी कविताएं : के. श्रीलता , अनुवाद : राजेश कुमार झा

महाभारत के आख्यान पर स्त्रीवादी कविताएं : के. श्रीलता , अनुवाद : राजेश कुमार झा

अनुवाद, लेखन तथा संपादन का लंबा अनुभव। के. श्रीलता अंग्रेजी साहित्य की जानी पहचानी लेखिका। कवि, उपन्यासकार औरसंपादक। आई.टी. मद्रास में अंग्रेजी की प्रोफेसर हैं। इनके अनेक कविता संग्रह तथा एक उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं। उन्हें अनेक साहित्यिक सम्मान भी मिले हैं।...

read more
नेपाली कविता रंग : वासुदेव पुलामी, अनुवाद : शशि शर्मा

नेपाली कविता रंग : वासुदेव पुलामी, अनुवाद : शशि शर्मा

नेपाली के चर्चित युवा कवि। ‘उज्यालोका आंखा’ और ‘आधा अर्थ’ कविता संग्रह। युवा लेखिका। ‘सामाजिक यथार्थ और दुष्यंत कुमार’ पुस्तक प्रकाशित। पहली बार जब मैं माँ के गर्भ सेबाहर आयामैंने उसके चेहरे का उजला रंग देखाकुछ दिनों बाद माँ ने जबखेलने के लिए मुझे जमीन पर छोड़ामैंने...

read more
नेपाली कविता : बैद्यनाथ उपाध्याय

नेपाली कविता : बैद्यनाथ उपाध्याय

चर्चित नेपाली कवि। ‘गगन के उस पार’चर्चित कविता संग्रह। कविता अनुवाद स्वयं कोलाहल रहस्य के महाद्वीप परमैंने शब्दों का नीड़ बनाया हैवहां सपनों के पहाड़ हैं नदियां हैंचिड़ियों का एक संसार हैवहां सबकुछ हैप्रकृति खुले में निर्वस्त्र होकर नाचती हैमैं वहां सदियां गुजारना...

read more
कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

पिछले एक दशक से लेखन में सक्रिय। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और अनुवादक तोबियस वुल्फ 19 जून 1945 को जन्मे तोबियस वुल्फ़ एक अमेरिकन राइटर और क्रिएटिव राइटिंग टीचर हैं। कहानियों लिखने के साथ-साथ वुल्फ़ ने संस्मरण और उपन्यास भी लिखे हैं। लेकिन ख़ासतौर पर वे अपने संस्मरणों के...

read more
महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

आर्थर वाली 19 अगस्त 1889-27 जून 1966इंग्लिश प्राच्य विद्वान, चीनी भाषाविद एवं अनुवादकसेंसरशिप मुश्किल नहीं हैपरदेस की खबरों को सेंसर करनाअलबत्ता मुश्किल हैखुद अपने ख्यालों को सेंसर करनाचुपचाप बैठे रहनाऔर देखना अंधे घोड़े पर सवार बूढ़े कोजो देख नहीं सकतामगर फिर भी दौड़ा...

read more