कहानी
इजलास : प्रकाश कांत

इजलास : प्रकाश कांत

वरिष्ठ लेखक। चार उपन्यास और तीन कहानी संग्रह : ‘शहर की आखिरी चिड़िया’, ‘टोकनी भर दुनिया’,  ‘अपने हिस्से का आकाश’। आर.एस.चौधरी, अर्ज़ीनवीस। उनके घर के दरवाज़े पर लगी नेम प्लेट। चौधरी बाबू के अर्ज़ीनवीस होने की घोषणा करती हुई। वे बरसों-बरस अर्ज़ीनवीस रहे। कचहरी में। होलकर...

read more
शामिल फैसला : सुषमा मुनींद्र

शामिल फैसला : सुषमा मुनींद्र

चर्चित लेखिका। अद्यतन कहानी संग्रह 'न नजर बुरी न मुँह काला'। कम रोशनी वाला किराए का कमजोर घर। कमजोर घर में व्याप्त कमजोर बाबू की खांसी और दिव्यांग गीता की सिलाई मशीन की खड़खड़ की आपसदारी। सदर कमजोर द्वार वाले छोटे कमरे में खाट पर पहरेदार की तरह पड़ा खांसता बाबू। इस कमरे...

read more
महानता : अश्विनीकुमार दुबे

महानता : अश्विनीकुमार दुबे

वरिष्ठ कथाकार। अद्यतन कहानी संग्रह 'एक और प्रेमकथा'। वे हाई स्कूल में शिक्षक हैं। मैंने कभी उन्हें अपने स्कूल में पढ़ाते नहीं देखा। वे जिलेभर के कई दफ्तरों में काम करते रहते हैं। कभी कलेक्टर कार्यालय में संलग्न हैं, कभी जिला पंचायत कार्यालय में अपनी सेवाएं दे रहे हैं...

read more
तीर्थयात्रा : दिनेश विजयवर्गीय

तीर्थयात्रा : दिनेश विजयवर्गीय

वरिष्ठ लेखक। राजस्थान साहित्य अकादमी बालसाहित्य सम्मान से सम्मानित। सेवानिवृत्त व्याख्याता। सुमरेश बाबू उत्साहित थे कि आज उन्हें वर्षों बाद अपनी जन्मभूमि छावनी, कोटा जाने का अवसर मिल रहा है। कई बार प्रयास किया, लेकिन लखनऊ से व्यस्तता के चलते कभी आना ही नहीं हुआ। पैंसठ...

read more
योद्धा : रविशंकर सिंह

योद्धा : रविशंकर सिंह

वरिष्ठ कथाकार। कहानी संग्रह 'तुमको नहीं भूल पाएंगे'। तालाब के निथरे जल में रात्रि के अंतिम पहर का नीम अंधेरा धीरे-धीरे घुल रहा था। भोर का उजास साइबेरियन पक्षी की तरह पंख फैलाकर पेड़ों की फुनगियों पर उतर रहा था। नीड़ों में पखेरू कलरव  करने लगे थे। कोयल की कूक वातावरण...

read more
झंडियां : हरियश राय

झंडियां : हरियश राय

वरिष्ठ कथाकार। दो उपन्यासों ‘ नागफनी के जंगल में’ और‘ मुट्ठी में बादल’के अलावा छह  कहानी संकलन‘बर्फ होती नदी’, ‘उधर भी सहरा’,‘अंतिम पड़ाव’, ‘वजूद के लिए’,‘ सुबह- सवेरे’ व ‘किस मुकाम तक’ प्रकाशित। इस सर्द रात में पूरन ने रज़ाई से हाथ बाहर निकालकर अपने मोबाइल‍ से टाइम...

read more
कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

पिछले एक दशक से लेखन में सक्रिय। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और अनुवादक तोबियस वुल्फ 19 जून 1945 को जन्मे तोबियस वुल्फ़ एक अमेरिकन राइटर और क्रिएटिव राइटिंग टीचर हैं। कहानियों लिखने के साथ-साथ वुल्फ़ ने संस्मरण और उपन्यास भी लिखे हैं। लेकिन ख़ासतौर पर वे अपने संस्मरणों के...

read more
कॉफिन : सुमंत रावल, अनुवाद : राजेंद्र निगम

कॉफिन : सुमंत रावल, अनुवाद : राजेंद्र निगम

        जन्म 14 नवंबर 1945। शासकीय सेवा में राजपत्रित अधिकारी रहे।कहानियाँ, उपन्यास, फिल्म-आलेख आदि पर सतत लेखन जारी रहा। कुल बाईस उपन्यास, दो कहानी संग्रह गुजरात साहित्य अकादमी द्वारा पुरस्कृत हुए।पिछले 24 अप्रैल 2021 कोकोरोना के कारण गुजरात के...

read more
अनबीता व्यतीत : हुस्न तबस्सुम निंहां

अनबीता व्यतीत : हुस्न तबस्सुम निंहां

चर्चित लेखिका। महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्व विद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र में शोधरत।कहानी संग्रह-‘नीले पँखों वाली लड़कियाँ’,‘नर्गिस फिर नहीं आएगी’,‘सुनैना! सुनो ना....’, ‘गुलमोहर गर तुम्हारा नाम होता’। दो कविता संग्रह, दो उपन्यास। ‘जाने क्यों लगता है कि मैं...

read more
औरत का घर : जसिंता केरकेट्टा

औरत का घर : जसिंता केरकेट्टा

युवा लेखिका,स्वतंत्र पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता। ‘यह किसका बच्चा है?’ आम के पेड़ के नीचे बैठे पंच सलगो से पूछ रहे हैं। सलगो दो बेटों की मां है। पति मर चुका है। अब वह फिर पेट से है। गांव में पंचायत बैठी है। गांव के लोग कभी सलगो तो कभी पंच का चेहरा ताक रहे हैं। सलगो...

read more
दर-ब-दर : ज़हीर कुरेशी

दर-ब-दर : ज़हीर कुरेशी

5अगस्त 1950को चन्देरी (म.प्र.) में जन्म। गजलकार के रूप में अधिक परिचित। कुल ग्यारह गजल संग्रह प्रकाशित। ‘एक टुकड़ा धूप’, ‘भीड़ में सबसे अलग, ‘पेड़ तनकर भी नहीं टूटा’ जैसे गजल संग्रह काफी चर्चित हुए। हाल ही में कोरोना से अकाल मृत्यु। 1 जून, 2020 से अनलॉक-1 घोषित हो...

read more
कीचड़ : सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव

कीचड़ : सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव

तीन दशक से पत्रकारिता में सक्रिय रहते हुए हाल तक आजतक ग्रुप के वरिष्ठ पद पर कार्यरत थे। कवि के रूप में इनके दो कविता संग्रह ‘रोटियों के हादसे’, ’अंधेरे अपने-अपने’ प्रकाशित। कोरोना की चपेट में आकर अकाल मृत्यु। पूरा जूता कीचड़ में सन गया। बारिश तो हुई नहीं थी, इसलिए उसे...

read more
बरगद एक नन्हा पौधा है : श्रीधर करुणानिधि

बरगद एक नन्हा पौधा है : श्रीधर करुणानिधि

युवा कथाकार। प्रकाशित पुस्तकें, ‘वैश्वीकरण और हिंदी का बदतलता हुआ स्वरूप’(आलोचना) और ‘खिलखिलाता हुआ कुछ’ (कविता-संग्रह)। गया कालेज में असिस्टेंट प्रोफेसर।उनका नाम इतना जवान था कि उन्हें बाबा कहने की इच्छा नहीं होती। यद्यपि थे वे बाबा ही। एक उम्र के बाद दाढ़ी-मूंछ और...

read more
अध्यापक जी : ज्ञानप्रकाश विवेक

अध्यापक जी : ज्ञानप्रकाश विवेक

गजल लेखन में सक्रिय। गजल, उपन्यास, कहानी, आलोचना आदि की तीस पुस्तकें प्रकाशित। अद्यतन गजल संग्रह ‘घाट हजारों इस दरिया के’।वो किसी प्राइवेट स्कूल से रिटायर हुए अध्यापक थे। उम्र साठ-बासठ, लेकिन तंगदस्ती और तंगहाली ने उन्हें ज्यादा बूढ़ा बना दिया था। उनके दोनों कंधे थोड़ा...

read more
शतरंज की एक बाजी : मिर्जा हफीज बेग

शतरंज की एक बाजी : मिर्जा हफीज बेग

अद्यतन कहानी संग्रह, ‘मेरी कहानियां आभासी दुनिया से - 1’। भिलाई इस्पात संयंत्र में कार्यरत। बाजी दाऊ हीरालाल ने बादशाह के सामने के प्यादे को दो घर आगे बढ़ाया। चोवाराम ने दाऊ जी की तरफ देखा मानो वह दाऊ जी के दिमाग को पढ़ने की कोशिश कर रहा हो। फिर वह मुस्कराया जैसे वह जान...

read more
ढलती शाम का सूरज : निशि रंजन ठाकुर

ढलती शाम का सूरज : निशि रंजन ठाकुर

कहानीकार के अलावा पत्रकार। प्रभात खबर, भागलपुर में न्यूज एडिटर।वहां बिलकुल नर्म धूप थी। ठंड की शुरुआत में इस नर्म धूप से सुखद कुछ नहीं हो सकता था। जेपी चबूतरे पर और पसर कर बैठ गया। सैंडिस कंपाउंड के इस हिस्से से जेपी को गजब का प्यार था। गुलमोहर व अमलताश के पेड़ों से...

read more
बदलाव : धीरज कुमार

बदलाव : धीरज कुमार

प्राथमिक विद्यालय में शिक्षण कार्य एवं लेखन।पहले गांव में ऊंची जाति वालों के घरों में विवाहोत्सव के समय अन्य जातियों के लोगों के लिए कोई न कोई काम जरूर हुआ करता था। जैसे कहार जाति उनके घरों में पानी भरते थे। कहारिन घर के कामों में मदद करती थी। लोहार घर से विदा हो रही...

read more
जापानी कहानी : फैक्टरी टाउन

जापानी कहानी : फैक्टरी टाउन

बेत्सुयाकू मिनोरु युद्धोपरांत जापान के एक प्रमुख नाटककार, उपन्यासकार और लेखक। जापान में ‘एब्सर्ड थियेटर की स्थापना में सहायक।अंग्रेजी से हिंदी रूपांतरण : विजय शर्मा प्रमुख समीक्षक और अनुवादक। आलोचना पुस्तक  : ‘क्षितिज के उस पार से’ एक दिन, बस यूं ही, एक छोटी-सी...

read more
तूफानी के बाद दुनिया : सुभाष चंद्र कुशवाहा

तूफानी के बाद दुनिया : सुभाष चंद्र कुशवाहा

सुपरिचित कहानीकार। किसानों और आदिवासियों पर विशेष शोधपरक कार्य। अद्यतन प्रकाशित कहानी संग्रह, लाला हरपाल और अन्य कहानियां।यह कहानी सुल्तानपुर गांव के तूफानी मास्टर और परमेश्वरपुर के पुराने तालुकेदार, भरत सेठ की अनूठी दोस्ती वृत्तांत से शुरू की जा रही है। तूफानी मास्टर...

read more
कंधे : विवेक द्विवेदी

कंधे : विवेक द्विवेदी

वरिष्ठ कहानीकार। चार कहानी संग्रह, तीन उपन्यास। अद्यतन कहानी संग्रह ‘रोहिनी राग’। पूरे गांव में कंक्रीट की सड़कें बन गई थीं। पांच हजार जनसंख्या वाले इस नेबूहा गांव में छोटी और बड़ी सभी प्रकार की जातियाँ वर्षों से रहती चली आ रही हैं। परंतु सारी छोटी जातियाँ तो ब्राह्मण...

read more