कविता
प्रताप राव कदम की कविताएं

प्रताप राव कदम की कविताएं

      युवा कवि। कविता संग्रह ‘एक तीली बची रहेगी’, ‘बीज की चुप्पी’। 1-बेदखल होना पीड़ादायक है जो हमें जानते हैंरिश्ते-नातेदार दोस्त हम-जातबगलगीर खेत-पड़ोसीसार्वजनिक नल पर मेल-मुलाकात टकरानेवालेकपड़ों पर लोहा फिरानेवाला धोबीफर्राश, रसोई गैस का हॉकरअल्ल-सुबह...

read more
शेषराव पीरजी धांडे की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

शेषराव पीरजी धांडे की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

कविता, शार्ट फिल्म, पत्रकारिता, अनुवाद में रुचि। प्रकाशित कविता संग्रह- ‘सफेद लोग’। मराठी के चर्चित दलित कवि। अद्यतन कविता संग्रह ‘बिघडलेले होकयंत्र’1-कॉकटेल गुटबाजी की राजनीति देखकरअब हम थक गए हैं बहुतआखिर मैंनेसारे के सारे आंदोलनों कोगिलास में डालकरघूंट दर घूंटहलक...

read more
शशिकांत हिंगोनेकर की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

शशिकांत हिंगोनेकर की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

कविता, शार्ट फिल्म, पत्रकारिता, अनुवाद में रुचि। प्रकाशित कविता संग्रह- ‘सफेद लोग’। शिक्षा अधिकारी। मराठी काव्य संगह ‘ॠतुपर्व’ महाराष्ट्र सरकार द्वारा पुरस्कृत। 1-मेरा सवेरा मेरे लिए निषिद्धघोषित किए जा रहे हैंफिर भी केंचुओं की सुगबुगाहट सेनहीं है मुझे भयमैंने रास्ते...

read more
दारला वेंकटेश्वरा राव की तेलुगु कविता : यहाँ जन्म लेना क्या अपराध है ?, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

दारला वेंकटेश्वरा राव की तेलुगु कविता : यहाँ जन्म लेना क्या अपराध है ?, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

दारला वेंकटेश्वरा राव : तेलुगु के प्रसिद्ध दलित कवि। भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा डॉ. आंबेडकर नेशनल एवार्ड से सम्मानित।अवधेश प्रसाद सिंह : लेखक, अनुवादक एवं भाषाविदमेरी रीढ़ की हड्डियाँ कांप उठती हैंजब कोई मेरे जन्म पर टिप्पणी करता हैमुझे नहीं पता कितने मत...

read more
अनामिका : सुशीला टाकभोरे

अनामिका : सुशीला टाकभोरे

      चर्चित कवयित्री। ऑल इंडिया बाल्मीकि यूथ ऑरगनाइजेशन की सचिव। अद्यतन उपन्यास ‘तुम्हें बदलना ही होगा’। अनामिका स्त्री है अनामिकाकोई नाम नहीं उसकाकोई धर्म नहीं उसकारूप गुण कर्तव्य हीउसकी पहचानसत-असत की माप सेनापी जाती है गरिमा उसकीसदियों से रहा हैयह...

read more
लोकनाथ यशवंत की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

लोकनाथ यशवंत की मराठी कविताएं/ अनुवाद : टीकम शेखावत

कविता, शार्ट फिल्म, पत्रकारिता, अनुवाद में रुचि। प्रकाशित कविता संग्रह- ‘सफेद लोग’। सुपरिचित मराठी दलित कवि। आठ कविता-संग्रह प्रकाशित। दलित आंदोलन से भी संबद्ध।1-लैंडस्केप कितना आनंददायी होता हैकैनवास पर सूर्योदय की पेंटिंग करनावैसे ही सूर्यास्त का भीविशाल लैंडस्केप...

read more
एंदलुरी सुधाकर की तेलुगु कविता : आत्मकथा, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

एंदलुरी सुधाकर की तेलुगु कविता : आत्मकथा, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

एंदलुरी सुधाकर : व्यापक रूप से सम्मानित तेलुगु दलित कवि, प्रोफेसर और अनुवादक। अपनी विशेष शैली के लिए विख्यात। येशुवा स्मृति पुरस्कार से सम्मानित।अवधेश प्रसाद सिंह : लेखक, अनुवादक एवं भाषाविदमेरी आत्मकथा का विमोचनएक भव्य भवन में किया गयाखुले मंच पर किया गया मेरा...

read more
कवि विशेष पवन करण की कविताएं

कवि विशेष पवन करण की कविताएं

अद्यतन कविता संग्रह,‘स्त्रीशतक खंड-एक’ और ‘स्त्रीशतक खंड-दो’। ‘नई दुनिया’, ग्वालियर के साहित्यिक पृष्ठ ‘सृजन’ का संपादन। 1-आपदा अकाल में अन्न के अभाव मेंहम बहुत सारे मारे गएबीमारी में दवाइयों के बिनाहम खूब सारे जिंदा नहीं बचेबाढ़ में, तूफान में, भूकंप मेंहम ढेर सारे...

read more
पेड़ जड़ नहीं होता : सूरजपाल चौहान

पेड़ जड़ नहीं होता : सूरजपाल चौहान

      वरिष्ठ दलित रचनाकार। कविता संग्रह ‘प्रयास’ और ‘क्यों विश्वास करूँ’। शाखामृगजानता हूँ तुम्हारा जीवनशाखाओं से नहीं है बाहरइसलिए तुम्हारा ख्वाब भीपेड़ से अधिक बसता है शाखाओं मेंये शाखाएँ जो जंगल की तरहफैलती हैं पेड़ परतुम्हारा सपना चमकता है इनके...

read more
वेमुला येल्लैया की तेलुगु कविता : श्मशान की दुर्गंध, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

वेमुला येल्लैया की तेलुगु कविता : श्मशान की दुर्गंध, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

वेमुला येल्लैया : तेलुगु के प्रमुख समकालीन दलित लेखकों में। एक कविता संग्रह के अतिरिक्त ‘कक्का’ और ‘सिद्दी’ दो दलित उपन्यास प्रकाशित।अवधेश प्रसाद सिंह : लेखक, अनुवादक एवं भाषाविदमैं वह हूँ जो शवों को जलाता हैलकड़ी की मदद से जलते शरीर कोचिता में धकियाता हैजलती चिता की...

read more
महेश पुनेठा की कविताएं

महेश पुनेठा की कविताएं

      युवा कवि। शिक्षा के क्षेत्र में सक्रिय। शिक्षा की छमाही पत्रिका ‘शैक्षिक दखल’ के संपादक। 1-नहीं बदले कुछ रसोइयों मेंनहीं लानी पड़ती है अबमटखान से मिट्टीलिपाई नहीं अब वहां पोछाई होने लगी हैधुआं नहीं रह गया अब उनकी पहचानलकड़ी की जगह गैस आ गई हैमाचिस...

read more
गजल : जहीर कुरैशी

गजल : जहीर कुरैशी

      चर्चित हिंदी गजलकार। कुल ग्यारह गजल-संग्रह प्रकाशित। स्वप्न देखे, स्वप्न को साकार भी करते रहेलोग सपनों से निरंतर प्यार भी करते रहे!उसने जैसे ही छुआ तो देह की वीणा के तार,सिहरनों के रूप में झंकार भी करते रहे।अम्न के मुद्दे पे हर भाषण में ‘फोकस’ भी...

read more
मराठी कविता क्रूरता : नामदेव ढसाल/ अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

मराठी कविता क्रूरता : नामदेव ढसाल/ अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

लेखक, भाषाविद और अनुवादक (1949-2014)। प्रसिद्ध मराठी कवि। दलित पैंथर आंदोलन के संस्थापक। अपने प्रथम कविता संग्रह ‘गोलपीठा’ से ही चर्चित।   मैं भाषा के गुप्तांग मेंयौन रोग से पैदा हुआ घाव हूँहजारों उदास दयनीय आंखों सेझांक रही जीवित आत्मा नेमुझे कंपकंपा दिया हैअपने...

read more
मुसाफिर बैठा की कविताएं

मुसाफिर बैठा की कविताएं

       दलित युवा कवि। दो काव्य संग्रह ‘बीमार मानस का गेह’ और ‘विभीषण का दुःख’। 1-यक्षिणी यक्षिणी को यदि जुबान होतीऔर उसे गढ़नेवाले मर्दों सेहिसाब लेने का अधिकारतो सोचोआज के रीति-मानस कवियो!तेरा क्या हाल होता? 2-वर्णभेद चुप्पी सवर्ण है गुस्सा दलित!चुप्पी...

read more
नबीना दास की कविता चूम रहे हैं वे, अनुवाद : राजेश कुमार झा

नबीना दास की कविता चूम रहे हैं वे, अनुवाद : राजेश कुमार झा

अनुवाद, लेखन तथा संपादन का लंबा अनुभव। आकाशवाणी में निदेशक के पद पर। अंग्रेजी की असम निवासी चर्चित कवि और कथाकार। काव्य संकलन- ‘ब्लू वेसेल’, ‘इनटू द माइग्रेंट सिटी’ - और ‘रेड रिवर’ और (संस्कारनामा)। बंदूक़ की नोक पर चूम रहे हैं वेजानते हैं कि चूमते हुए वे नहीं पकड़े...

read more
अमांडा गोरमन की कविता चढ़ते जाना है पहाड़ों पर, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

अमांडा गोरमन की कविता चढ़ते जाना है पहाड़ों पर, अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

लेखक, भाषाविद और अनुवादक। अमेरिकी कवयित्री और सामाजिक कार्यकर्ता। मुख्यतः शोषण, नस्लवाद, स्त्री विमर्श, हाशिए के लोगों पर केंद्रित रचनाएं। ‘द वन फॉर हूम फूड इज नॉट इनफ’ प्रसिद्ध रचना। राष्ट्रीय युवा कवयित्री के रूप में चयन। 2021 में बाइडेन के राष्ट्रपति पद के शपथ...

read more
कुछ कविताएं : उपमा ॠचा

कुछ कविताएं : उपमा ॠचा

युवा लेखिका और अनुवादक। ' एक थी इंदिरा' किताब का लेखन। प्रमुख अनुवाद : ‘भारत का इतिहास’ (माइकल एडवर्ड), ‘मत्वेया कोझेम्याकिन की ज़िंदगी’, स्वीकार’ (मैक्सिम गोर्की), ‘ग्वाला’  (अन्ना बर्न्स)आदि। 1-अकेली सांझ में लड़की अकेली सांझ में लड़कीअकेली नहीं होतीवह पूछती हैचांद का...

read more
कवि विशेष आशुतोष दुबे की कविताएं

कवि विशेष आशुतोष दुबे की कविताएं

1-कथा में जो वस्तु है किंवदंती इतिहास मानी जाएऔर इतिहास को मिले दर्जाधर्म की किताब कालेकिन कथा में जो वस्तु हैवह ऐयार हैवह किस रूप में कहां मिलेगीवह भी जानती नहीं ठीक-ठीकतुम उसे दीवार पर कील से ठोकना चाहते होऔर वहाँ कुछ नहीं मिलतातुम उसे बोतल में बंद करना चाहते होऔर...

read more
दो कविताएं : नूपुर अशोक

दो कविताएं : नूपुर अशोक

      कविता संग्रह - ‘मेरे मन का शहर’। व्यक्तित्व विकास एवं व्यावहारिक कौशल प्रशिक्षक। 1-बूंद और मैं पानी की एक बूंदमेरी खुली हथेली पर आ पहुंचीशायद आसमान से आईजिंदगी से भरी एक बूंदचाहूं तो पी लूंचाहूं तो गीला कर लूंअपना सूखा चेहराया धीरे से लुढ़का...

read more
कमल जीत चौधरी की कविताएं

कमल जीत चौधरी की कविताएं

      कविता संग्रह ‘हिंदी का नमक’। जम्मू-कश्मीर की समकालीन कविता के प्रतिनिधि संग्रह ‘मुझे आई.डी.कार्ड दिलाओ’ का संपादन।1-इतना प्रेम करते हो तुम इतना प्रेम करते हो तुमताकि अंततः शराब तुम्हें पी जाने कोमजबूर हो जाएदोस्त,इतनी शराब पीते हो तुमताकि अंततः...

read more