प्रतिक्रिया
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

उदय राज सिंह:‘वागर्थ’ के अप्रैल अंक में मल्टीमीडिया एक उत्तम प्रयास है! उपयोगी और लाभदायक! आभार पूरी टीम के प्रति ! अंकेश मद्धेशिया: ऐसे और भी वीडियो बनाइए, कथनों का चयन बहुत अच्छा है. बहुत सामयिक! समर सिंह: अप्रैल अंक की मल्टीमीडिया प्रस्तुति को कई बार पूरा सुना....

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

नौशीन परवीन, रायपुर:‘वागर्थ’ के जनवरी अंक से लेकर मैं अब तक ‘वागर्थ’ को गंभीरता से पढ़ती आ रही हूँ।मुझे लगता है कि हिंदी में यह अपनी तरह की एक अलग पत्रिका है जो सुनियोजित रूप से संपादित और प्रकाशित होती है।इसकी विविध सामग्री पठनीय और संग्रहणीय है।पूरी ‘वागर्थ’ टीम इसके...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

भावना सिंह, हालिशहर :2022 के जनवरी अंक में छपी ईशमधु तलवार जी की कहानी ‘पत्थर के डालर’ अंतर्मन को छू गई।सच में इस कोरोना महामारी ने बहुतों से बहुत कुछ छीन लिया।हम दिन-रात पाने की चाह में बस चलते चले जा रहे थे, पता नहीं कब इस महामारी ने हम पर विराम लगा दिया।यह कैसी...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

नंदकिशोर तिवारी, वाराणसी:‘वागर्थ’ मासिक का दिसंबर ’21 अंक देखा।जायसी का पद्मावत : पंचशती चर्चा जानकारीपूर्ण लगी।जसिंता केरकेट्टा की कहानी ‘औरत का घर’ हरियश राय की ‘इंडिया’, नर्मदेश्वर कर ‘अजान’ रुचिकर लगे।कविताएं भारत यायावर, राजेंद्र उपाध्याय, पूजा यादव की रचनाएं...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

प्रेमकुमार गौतम (उ.प्र.) : ‘वागर्थ’ जून-नवंबर 2021 अंक में प्रकाशित कुछ दिवंगत रचनाकारों की रचनाओं ने बरबस ध्यान खींच लिया| शरतचंद श्रीवास्तव की कविता ‘आधी रात’, सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की कथा- ‘कीचड़’ बेहद मर्मस्पर्शी बन पड़ी है| मरहूम जहीर कुरेशी की कथा -...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

सौरभ सिंह: ‘वागर्थ’ दिसंबर 2021 अंक| वैश्विक बाजार ने गांवों में अपरंपार इच्छाएं पैदा की हैं| परंतु लोगों के पास इसे पूरा कर सकने का कोई साधन नहीं है| इस अंतर्विरोध ने असह्य अवसाद और अवसन्नता पैदा की है| अतिरिक्त उत्पादन की चाहत ने प्रकृति का नाश कर दिया| व्यक्तिवादी...

read more
मन के भीतर की कई परतों की पड़ताल

मन के भीतर की कई परतों की पड़ताल

पूनम सिंह, मुहफ्फरपुर: जून-नवंबर 21 अंक में वैभव सिंह की कहानी इस अंक के नागरिक परिसर में विमर्श के कई प्रश्न खड़े करती है| हिंदी लोकवृत की समस्याओं को लेकर अवधेश प्रधान, बसंत त्रिपाठी तथा अन्य सजग बौद्धिकों द्वारा की गई परिचर्चा ने इस परिसर में संवाद को बहुतस्तरीय और...

read more
कम से कम मैं मानवीय तो कहला ही सकूं

कम से कम मैं मानवीय तो कहला ही सकूं

संजय जायसवाल, नैहाटी :  वागर्थ के अक्टूबर अंक में ज्ञानप्रकाश जी की सारी गजलें हमारे दिल की बातें हैं, लाजवाब| बहुत दिनों बाद लगा कि सच पढ़ नहीं देख रहा हूँ| शैलेय की तीनों कविताएं पठनीय हैं| बढ़ती दूरियों और खामोशियों पर एक सामीप्य और संवाद की गहरी बेचैनी| पुष्पांजलि...

read more
भावपक्ष के समान उत्तम कोटि का कला पक्ष

भावपक्ष के समान उत्तम कोटि का कला पक्ष

हंसा दीप, कैनेडा : सितंबर 2021 का वागर्थ। नि:संदेह आने वाली पीढ़ियों को अपना भविष्य अंग्रेजी भाषा में नज़र आता है, परिणामस्वरूप हिंदी भाषी क्षेत्रों में भी हिंदी सिर्फ बोलचाल की भाषा रह गई है। पालक अपने बच्चों को बचपन से ही अंग्रेजी स्कूलों में भेजकर उनके सुनहरे...

read more
दारुण यथार्थ से साक्षात्कार

दारुण यथार्थ से साक्षात्कार

बिपिन बिहारी साव : आज की मीडिया व्यावसायिक बुद्धि से संचालित होती है और जिस मीडिया में आदर्श की स्थिति बची है उसका भी रुझान इसी तरफ हो रहा है। इस समस्या की मुख्य जड़ पूंजीवादी सभ्यता है। विनय कुमार सिंह : अगस्त 2021 के संपादकीय में समकालीन पत्रकारिता की दशा-दिशा का जो...

read more
हम टिटहरी प्रयास तो कर ही सकते हैं।

हम टिटहरी प्रयास तो कर ही सकते हैं।

वेदप्रकाश आर्य : वागर्थ का जुलाई अंक।वे बुद्धिजीवी जिनमें स्वतंत्र चेतना शेष है, जिन्हें सामान्य जन के सुख दुख भीतर से आंदोलित करते हैं, वे अपने आपको विशिष्ट नहीं समझ सकते,समझना चाहिए भी नहीं। परंतु ऐसे बुद्धिजीवियों का इस समय भयानक अकाल पड़ा हुआ है। अब वे बुद्धिजीवी...

read more
दृष्टिकोण बदल लेने को प्रेरित करता अंक

दृष्टिकोण बदल लेने को प्रेरित करता अंक

ख़ास चिट्ठी : नवनीत कुमार झा, दरभंगा वागर्थ, जून 2021 अंक: दलित आंदोलन और विमर्श की जिस परंपरा को फुले,अय्यनकलि, पेरियार रामास्वामी आदि ने सींचा उसे एक संगठित वैचारिक जमीन देकर पल्लवित- पुष्पित करनेवाले अंबेडकर के विचारों की अहमियत आज बढ़ गई है, क्योंकि आज धार्मिक...

read more
समकालीन दौर का एक ज्ञानवर्धक चित्र

समकालीन दौर का एक ज्ञानवर्धक चित्र

नवनीत कुमार झा, दरभंगा,  राहुल सांकृत्यायन के समकालीन थर्मानंद कोसांबी भी बुद्ध के प्रति आस्था रखने वाले एक अद्भुत और अध्ययनशील यायावर थे, परन्तु वे राहुल सांकृत्यायन से वैसे ही अलग थे जैसे दो ध्रुव हों !! धर्मानंद कोसांबी से पूरी तरह से अपरिचित होने के कारण राधावल्लभ...

read more
सराहनीय प्रयास

सराहनीय प्रयास

1- चितरंजन भारती, असम :  वागर्थ का अंक 303। फणीश्वरनाथ रेणु के महत्व को सवालों के दायरे में रख सुधी रचनाकारों ने महत्वपूर्ण जानकारी दी है। उपन्यास में बदलते गांव को तीन उपन्यासों के मद्देनजर श्रद्धांजलि सिंह ने बेहतरीन विवेचन किया है। पंकज चतुर्वेदी, उमाशंकर चौधरी,...

read more
प्रासंगिक और विचारोत्तेजक अंक

प्रासंगिक और विचारोत्तेजक अंक

भारत यायावर, हजारीबाग : लंबे समय तक कोरोना काल में बंद ‘वागर्थ’ अब मुक्त होकर शीतल समीर-सा आया और इंडिया में किसान के बहाने भारत माता के जार-जार रोने की चर्चा कर गया। रेणु से बड़ा किसान लेखक भला और कौन है? पीड़ित दशा में जी रहे किसान को वाणी देने वाले रेणु स्वयं किसान...

read more
रचनात्मक और चिंतनपरक सामग्री से सजा अंक

रचनात्मक और चिंतनपरक सामग्री से सजा अंक

अंकेश मद्धेशिया, इलाहाबाद : बचपन की स्मृतियों में बसंत पंचमी की स्मृति स्कूल में होने वाली सरस्वती वंदना और सरस्वती पूजा के बाद मिलने वाले प्रसाद के रूप में ही है। उम्र की कुछ और सीढ़ियां चढ़कर आगे आने पर बसंत की गरिमा का कुछ अनुमान हुआ, जब बसंत पर हिन्दी के...

read more
तकनीकी और प्राविधिक विकास की राह पर चलना होगा

तकनीकी और प्राविधिक विकास की राह पर चलना होगा

  देवसबोध भदंत : ‘वागर्थ’ के ऑनलाइन दिसंबर 2020 के अंक में बालकृष्ण काबरा ऐतेश द्वारा अनूदित लैंग्स्टन ह्यूज की कविता ‘फ्रीडम ट्रेन’ में अनोखा काव्य तत्व मौजूद है। नस्लवाद पर इतनी शालीनता से प्रत्यालोचना पहले दिखाई नहीं दी। बिर्ख खडका डुवर्सेली : कोरोना काल में...

read more
हमने अपने भीतर का बहुत कुछ खो दिया है

हमने अपने भीतर का बहुत कुछ खो दिया है

  वागर्थ के नए वेब एडिशन में आपका स्वागत है. कृपया हमसे जुड़ें और अपने अनुभव साझा करें. चुनिंदा प्रतिक्रियाओं को हम पत्रिका में प्रकाशित करेंगे.एक नई सोच, संकल्पना और सृजनधर्मिता समर कुमार सहायक संपादक, लोक सभा सचिवालय (दिल्ली) 'वागर्थ' का डिजिटल अंक देखा। बड़ा सुकून...

read more
अनकहे दर्द की अभिव्यक्ति

अनकहे दर्द की अभिव्यक्ति

ख़ास चिट्ठी : अनामिका सिंह, कोन्नगर सितंबर 2019 के उत्तरार्ध में प्रकाशित वागर्थ की कविताएँ उन अनकहे पहलुओं को उजागर करने की कोशिश करती हैं जहाँ से हम भरसक अनजान बने रहने की कोशिश करते हैं। ज्योति चावला की कविता ‘उनके पैरों की आवाज से कांप रही है पृथ्वी’ उसी बदरंग पहलू...

read more
पीड़ा के पीछे का मनोविज्ञान

पीड़ा के पीछे का मनोविज्ञान

ख़ास चिट्ठी : अनुपमा ऋतु, युवा लेखिका एवं अनुवादक स्त्री के सवालों से संवाद करता सितंबर अंक विचार के लिए कई सशक्त बिन्दु थमाता है। कई सवाल पैदा करता है। कई जवाब सौंपता है। शक्ति, शोक और सशक्तिकरण की त्रयी को तमाम पहलुओं पर जाँचे जाने की ज़रूरत है। उदविकास की यात्रा...

read more