प्रतिक्रिया
पाठक संसद- अप्रैल 2024

पाठक संसद- अप्रैल 2024

मोती लाल:‘वागर्थ’ का मार्च 2024 का अंक स्वागत योग्य है। संपादकीय एवं अन्य सामग्री पठनीय एवं संग्रहणीय है। एक सजग पाठक के लिए इसे पढ़ते रहना अनिवार्य जैसा है। धर्म और स्त्री को लेकर लिखा गया लेख बहुत मार्मिक है। इनका गठजोड़ सदियों से भारतीय जनता के शोषण का बड़ा हथियार रहा...

read more
पाठक संसद- मार्च 2024

पाठक संसद- मार्च 2024

विवेक सत्यांशु, इलाहाबाद:  संपादकीय सुखवाद पर ज्ञान की श्रेष्ठ को स्थापित करता है। कहानियां सभी अच्छी हैं, लेकिन जसिंता केरकेट्टा की कहानी ‘अंतिम वार’ संवेदना के धरातल पर स्पर्श करने वाली और चेतन को झकझोर  देने वाली कहानी है। नगेन शइकिया की असमिया कहानी ‘बहुत शर्म आई’...

read more
पाठक संसद- फरवरी 2024

पाठक संसद- फरवरी 2024

राजेश पाठक, गिरिडीह : युवा लेखिका जसिंता की कहानी ‘अंतिम वार’, भोगे हुए यथार्थ के धागे से रची-बुनी एक सशक्त कहानी है। यह सामाजिक विद्रूपताओं पर तीखा प्रहार है। इस कथा के पात्र समाज में पैठे बहुरूपियों के छल-छद्म को उधेड़ने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ते। इनके विचार तथा...

read more
पाठक संसद- 2024

पाठक संसद- 2024

पुष्पांजलि दाश: ‘वागर्थ’ के दिसंबर 2023 अंक में बाप बेटी के पवित्र रिश्ता को शर्मशार करने वाली, अमर्यादित कुकृत्य पर बेबाकी ढंग से कलम चलाने की ताकत रखने के लिए ‘झोपड़पट्टी की नायिका’ कहानी की लेखिका पिंकी कांति को साधुवाद। दिलो दिमाग को झकझोर देने वाली घटना का फैसला...

read more
पाठक संसद दिसंबर- 2023

पाठक संसद दिसंबर- 2023

भूपेन्द्र सिंह, लखीसराय: दुनिया की भीड़ से हटकर ‘वागर्थ’ पत्रिका पढ़ना बहुत ही सुखद लगता है। वैचारिकी और साहित्य सृजन को यह अनूठी पत्रिका बहुत प्रोत्साहित करती है। बहरहाल मैंने बड़े चाव से ‘वागर्थ’ के अक्टूबर अंक को पढ़ा। इसका आवरण पृष्ठ बहुत ही आकर्षक लगा। एक नई पहल बहुत...

read more
पाठक संसद

पाठक संसद

विजयश्री तनवीर, दिल्ली: मैं ‘वागर्थ’ के संपादक के पास यह शिक़ायत दर्ज़ कराना चाहती हूँ कि इसके अक्टूबर 2023 अंक में रजनी शर्मा बस्तरिया की कहानी ‘सेवती का ककवा गंधरु का रूमाल’  मेरी कहानी ‘जो डूबा सो पार’ की सौ फ़ीसद नकल है। मेरी यह कहानी 2020 में ‘अहा ज़िन्दगी’ के  फ़रवरी...

read more
पाठक संसद

पाठक की टिप्पणी

हंसा दीप, कनाडा:‘वागर्थ’ के सितंबर  अंक। ‘टूटी पेंसिल’ की बेहतरीन प्रस्तुति ने मुझे बहुत प्रभावित किया। तहेदिल से शुक्रिया अदा करती हूँ। कहानी पर लगातार कई प्रतिक्रियाएँ मिल रही हैं। ‘वागर्थ’ का पाठक वर्ग व्यापक है। राजेश पाठक, गिरिडीह:‘वागर्थ’ का अगस्त अंक। यह एक...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

शशि खरे, रायपुर:‘वागर्थ’ जुलाई अंक। लंबे समय बाद इतना गंभीर, रचनात्मक, लगातार बांधे रखने में सक्षम, सही मायने में संपादकीय पढ़ा है। प्रेमचंद साहित्य को लेकर  अतीत और वर्तमान, वैश्वीकरण का फैलाव और मानसिक संकीर्णता, पैसा, सुख और सत्ता की दौड़ में शामिल लोग और बदलता...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

रामदुलारी शर्मा: भानुप्रकाश रघुवंशी की कविताएं ‘वागर्थ’ पत्रिका में प्रकाशित होना वाकई सुखद संदेश है। वह समय के एक सजग रचनाकार हैं। एक तरफ राजनीतिक-सामाजिक विद्रूपताओं पर पैनी नजर रखते हैं तो दूसरी ओर उनकी रचनाएं संवेदना में बेहद मार्मिक और नम होकर गहराई में उतरती चली...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

प्रिय मेरी अच्छी-सी छोटी बहना कुसुम, आज अचानक सुबह-सुबह मेरा झोला तुम्हारी सौगात से भर गया। सौगात यानी ‘वागर्थ’ का मई 2023 अंक। ‘अचानक’ इसलिए कि इस बार कई महीनों के अंतराल में ‘वागर्थ’ आया। ‘समावर्तन’ का भी यही हाल है। प्रकाशित हर महीने वेबसाइट में हो जाता है, किंतु...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

राजेंद्र पटोरिया, नागपुर:‘वागर्थ’ का अप्रैल २०२३ अंक। ‘भारतीय नदियों पर संकट’ (प्रस्तुति : रमा शंकर सिंह) विशेष रूप से पढ़ा।इस पर पहले भी संकट था, आज भी संकट है।यदि सरकार योजनाबद्ध तरीके से प्लानिंग बनाकर पूरी निष्ठा, ईमानदारी एवं समर्पण के साथ इस ओर कदम बढ़ाए तो...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

प्रशांत कुमार, मुंबई:‘वागर्थ’ के अप्रैल अंक में जितेंद्र कुमार सोनी की ‘किराए का मकान’ काफी सुंदर कहानी है। मुंबई जैसे शहर में पिछले १० सालों से मैं भी किराए के मकान में रहता हूँ, मेरा बेटा भी यहीं पैदा हुआ। जब घर बदला था तो बेटा कई दिन तक बार-बार यही कहता रहा कि पापा...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

विवेक सत्यांशु, इलाहाबाद - ठीक होली के १ दिन पहले वागर्थ का मार्च २०२३ अंक प्राप्त हुआ, आभारी हूँ।होली में इससे अच्छा उपहार कुछ नहीं हो सकता। असहमति के विवेक से ही सर्जनात्मक आलोचना का विकास होता है।कहानियां तो सभी अच्छी हैं किंतु मनोरंजन व्यापारी की कहानी माननीय दशा...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

मीनाक्षी आहूजा -‘वागर्थ’ फरवरी अंक में कीर्ति शर्मा की प्रकाशित कहानी ‘उजाले की ओर’ एक खूबसूरत कहानी है।जीवन एक बार मिलता है और बुढ़ापे में जीवनसाथी का न होना सच में कष्टकारी है।औरत के जीवन में त्याग के साथ ऊर्जा भी प्रति क्षण क्षीण हो कर केवल एडजेस्टमेंट में खर्च हो...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

गंगा प्रसाद, कांचरापाड़ा-‘वागर्थ’ के जनवरी २०२३ के अंक में प्रकाशित हेरम्ब चतुर्वेदी का आलेख ‘गांधी की मृत्यु देखना चाहते थे औपनिवेशिक सत्ताधीश’ बहुत ही महत्वपूर्ण लगा।आलेख संग्रहणीय है। ‘आशावाद के जनकवि : ध्रुवदेव मिश्र पाषाण’ को पढ़कर उन दिनों में खो गया, जिन दिनों...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

अजय प्रकाश, इलाहाबाद:‘वागर्थ’ के नवंबर अंक में समीक्षा संवाद के अंतर्गत शेखर जोशी से जुड़े प्रश्न और उत्तर दोनों लाजवाब हैं।शेखर जोशी जब दिल्ली से इलाहाबाद आए तो ज्ञान प्रकाश जी के साथ गुड़ की मंडी में रहते थे और हर शनिवार को इंडियन काफी हाउस जाते थे।इसलिए पत्रकारों ने...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

सुधीर सजल, भोपाल:‘वागर्थ’ अक्टूबर २०२२ अंक।आंचलिक गंध और ध्वनियों से पगी, रहस्य और रोमांच से भरी, स्वाभाविक नाटकीयता में गुंथी अवधेश प्रसाद सिंह की कहानी ‘तीजी’ बहुत संवेदित करती है। पी. के. सिंह, पटना:‘वागर्थ’ का अक्टूबर २०२२ अंक प्राप्त हुआ।अद्योपांत पढ़कर...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

दशरथ कुमार सोलंकी- निश्चित ही, यह जानना और समझना नितांत नया है कि हिंसा स्वाभाविक है और अहिंसा अर्जित! इसके पीछे का तार्किक विश्लेषण अपूर्व है।साधुवाद आज के समय के सच को उजागर करने के लिए। चैताली सिन्हा- सितंबर अंक में बोधिसत्व की बहुत सुंदर और प्रासंगिक कविताएं...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

विश्वनाथ किशन भालेराव:‘वागर्थ’ बहुत ही महत्वपूर्ण पत्रिका है।पढ़ने के बाद वैचारिक क्षमता का निर्माण होता है।ज्ञानवर्धक जानकारी है।कवयित्री चित्रा पंवार की कविताएं वर्तमान परिप्रेक्ष्य में बहुत ही मार्मिक और जीवन के प्रति सचेत होने के संबंध में लिखी गई हैं। विष्णु...

read more
पाठक की टिप्पणी

पाठक की टिप्पणी

गंगा प्रसाद, कांचरापाड़ा:‘वागर्थ’ 2022 अगस्त अंक।संपादकीय के तहत ‘स्वतंत्रता के इन 75 सालों ने क्या दिया’ पढ़कर लगा कि अपनी बात रखी गई है।सुभाष चंद्र कुशवाहा का आलेख ‘1857 घुड़सवार सैनिक, मातादीन और उसके साथियों की बगावत’ दस्तावेज जैसा मालूम पड़ा।लघुकथा ‘कारण’ (मीरा जैन)...

read more