लघुकथा
खूबसूरती : उपमा शर्मा

खूबसूरती : उपमा शर्मा

ऑपरेशन थियेटर में लेडी डाक्टर की बातचीत कानों में पड़ने पर काजल ने आंखें खोलीं। वह टांके लगा रही थी। दर्द से काजल की आंखों में आँसू आ गए थे। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि कौन सा दर्द ज्यादा है- शरीर का या अपनी खूबसूरती खत्म होने का। उसे सहेलियों की बातें याद आ रही थीं,...

read more
थिंक पॉजिटिव : आलोक सतपुते

थिंक पॉजिटिव : आलोक सतपुते

पहला दोस्त (पाउच खोलते हुए) - ले सौंफ खा ले। दूसरा दोस्त - नहीं, मैंने सौंफ खाना छोड़ दिया है। पहला दोस्त - क्यों भला? दूसरा दोस्त- कुछ दिन पहले तक मैं इसी ब्रांड के पाउच की सौंफ खाता था। लेकिन एक बार इस पाउच को खोलकर मुंह में लिया ही था कि मुंह में कुछ गड़ने का अहसास...

read more
अंतर्द्वंद्व : अरिमर्दन कुमार सिंह

अंतर्द्वंद्व : अरिमर्दन कुमार सिंह

नई पोस्टिंग वाली जगह पर एक फलवाले से परिचय बढ़ गया। वह हमें खरीद दाम पर फल दे देता था। एक दिन उसने मुझको फोन किया, ‘सर, दस हजार रुपए की सख्त जरूरत है। जुगाड़ हो जाएगा? मेरा एटीएम कार्ड पता नहीं कहां खो गया है। मेरे लड़के ने दुबई से पैसा भेजा है, परंतु पैसा दो दिनों बाद...

read more
हथौड़ा : राम करन

हथौड़ा : राम करन

फाइल लेकर बाहर निकला तो देखा बरामदे के बाहर एक मजदूर हाथ में कुल्हाड़ी जैसा बड़ा हथौड़ा लेकर खड़ा था। मैं उससे कुछ कहता, उससे पहले वह बोल पड़ा, ‘साहेब, फर्श क्यों तुड़वा रहे हैं?’ मैंने फर्श को गौर से देखा। मुझे समझते देर नहीं लगी। फंड आया हुआ था, उसे खर्च करना था। पूरे...

read more
हकीम की दवा : मनोहर जमदाडे

हकीम की दवा : मनोहर जमदाडे

‘दवा ले लो! दवा ले लो!’ कहते हुए एक हकीम चैननगर पहुँच। गांव के बीचों-बीच आकर ‘चमत्कारिक दवा ले लो!’ कहकर जोर-जोर से गला फाड़ने लगा। हकीम की आवाज सुनकर मिनटों में भीड़ का सैलाब उमड़ आया।  ‘सचमुच चमत्कारिक दवा है आपकी?’ गांव के मुखिया ने आगे आकर पूछा। ‘जरूर, सौ जड़ीबूटियों...

read more
गुड्डे को सॉरी बोलो : मनोज चौहान

गुड्डे को सॉरी बोलो : मनोज चौहान

ऑफिस से लौटकर और हाथ-मुंह धोकर जैसे ही नरेन चाय पीने बैठा, उसने देखा कि पास ही तीन साल की बिटिया शिवन्या खिलौने से खेलने में व्यस्त है। हमेशा की तरह उसने रिमोट पर अपना हक जमाया हुआ है। नरेन के टीवी का रिमोट मांगने पर नन्ही शिवन्या ने कहा, ‘पापा, पहले मेरे गुड्डे को...

read more
चिराग तले अंधेरा : सेराज खान बातिश

चिराग तले अंधेरा : सेराज खान बातिश

फकीर मास्टर मुहल्ले के प्रसिद्ध लोगों में थे। एक हकीकत यह है कि वे अंत तक हाई स्कूल पास नहीं कर पाए थे। जब भी बेवजह वे पीठ पर कूबड़ बनाते हुए बातें करते, उन्हें देख कर हँसी आ जाती और वे गंभीर हो जाते। बच्चे उनसे खुश रहते और अभिभावक संतुष्ट। बच्चों को प्यार से सिखाना,...

read more
मांड़ का मजहब : मार्टिन जॉन

मांड़ का मजहब : मार्टिन जॉन

‘घबड़ाओ नहीं कासिम। बेफ़िक्र होकर बताओ।’ ‘सर, मेरे मोबाइल में अंजान नंबरों से मुझे जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं। ‘क्यों? ऐसा क्या किया तुमने?’ ‘मेरी बीवी रोज़ नाली में मांड़ बहाने के बजाए उसे गली मोहल्ले की गायों को पिला देती है।’ ‘मांड तो कोई गंदी चीज़ नहीं है।...

read more
नींद का हरकारा : ज्ञानदेव मुकेश

नींद का हरकारा : ज्ञानदेव मुकेश

बूढ़े दादा-दादी रात के भोजन के बाद बड़े चिंतित थे, क्योंकि उन्हें नींद बिलकुल नहीं आ रही थी। कल उनके पोते का जन्मदिन था। दादी के कहा, ‘संदूक में एक पुराना खिलौना रखा है, वह दे देते हैं।’ दादा ने कहा, ‘हां, कुछ साल पहले लिया था, मगर किसी को दे नहीं पाया था। जरा देखो, नया...

read more
बिना टिकट : गजेंद्र रावत

बिना टिकट : गजेंद्र रावत

उसे एक्टिंग का बहुत शौक है। न जाने कितनी बार स्कूल से बंक मारकर उसने ढेरों फिल्में देख डाली थीं। वह मुंबई की फिल्मी दुनिया के सपने देखने लगा था। लेकिन क्या करे, वहां का कोई जुगाड़ बैठ नहीं पा रहा था। एक दिन हिम्मत करके वह बिना टिकट ही ट्रेन पर चढ़ गया। उसकी जेब में...

read more
अनुत्तरित प्रश्न : ज्योति मिश्रा

अनुत्तरित प्रश्न : ज्योति मिश्रा

छड़ी हथेली पर लगी तो एक छोटी कक्षा में चीकू की रुलाई फूट पड़ी। मास्टर साहब ने गुस्से में चीकू की उत्तर पुस्तिका छीनते हुए कड़क आवाज में कहा, ‘परीक्षा में नकल करते हो...! क्या नकल करके लिखा है, दिखाओ।’ चीकू ने सहमी हुई आवाज में कहा, ‘...मास्टर जी! कुछ नहीं। बस एक सवाल का...

read more
मुस्कान : पूजा भारद्वाज

मुस्कान : पूजा भारद्वाज

आज बस जैसे ही रेलवे क्रॉसिंग से निकली सामने से आती रोडवेज बस को मैंने ध्यान से देखा। आज भी वही दूसरा ड्राइवर था। मुझे चिंता हुई। दूसरेे दिन रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन आने के इंतजार के दौरान मैं बस से उतरा और दूसरी तरफ खड़ी रोडवेज की ओर चला आया। बस ड्राइवर को राम-राम कर...

read more
अंग्रेजी मीडियम : शेफालिका सिन्हा

अंग्रेजी मीडियम : शेफालिका सिन्हा

दो-तीन दिनों से काम करने वाली मुन्नी मुझसे कुछ कहना चाह रही है, पर कह नहीं पा रही थी। कहे भी कैसे, सुबह में मुन्नी के आने के पहले तो मैं स्कूल चली जाती हूँ, शाम को जब मुन्नी आती है, तब मैं थकी-हारी सोई रहती हूँ। इस समय मैं किसी का सुनना नहीं चाहती।  एक रविवार ही होता...

read more
असली इंसान : गोविंद भारद्वाज

असली इंसान : गोविंद भारद्वाज

रेलगाड़ी के जिस डिब्बे में रामबाबू बैठा था, उसी में अचानक टीटी आ गया। रामबाबू ने जैसे ही टिकिट दिखाने के लिए जेब में हाथ डाला वह बुदबुदाया, ‘ये क्या मेरा बटुआ..और पैसे.. टिकिट..सब कहां..।’  रामबाबू की जेब कट चुकी थी। टीटी बाबू को देखकर उसके चेहरे पर घबराहट के मारे...

read more
सफलता का मापदंड : मुकेश पोपली

सफलता का मापदंड : मुकेश पोपली

आज शाम 5 बजे कंपनी के सीईओ सभी कर्मचारियों को संबोधित करेंगे, इसलिए निर्धारित समय पर मीटिंग हाल में सब लोग एकत्र हो जाएं! यह संदेश कंपनी के प्रत्येक कर्मचारी के मोबाइल पर सुबह 11 बजे चमकने लगा था। 4 बजकर 55 मिनट पर अचानक सबके कंप्यूटर बंद हो गए। मयंक को छोड़कर सब लोग...

read more
इकलौता बेटा :रविशंकर सिंह

इकलौता बेटा :रविशंकर सिंह

-भाई, मेरी लड़की के लिए कहीं अच्छा घर-वर दिखे, तो बताना! -कैसा लड़का चाहिए? -लड़का सरकारी नौकरी में हो। परिवार छोटा हो। -छोटा परिवार! -हां, उसपर भाई-बहनों की जिम्मेदारी न हो। उसके माता-पिता पेंशन होल्डर हों तो सोने पर सुहागा। -एक इंजीनियर लड़का है चलेगा? -क्या वह सरकारी...

read more
पूर्वग्रह : शशि बांयवाला

पूर्वग्रह : शशि बांयवाला

एक शिक्षिका की अपने संस्थान में काफी सख्त छवि थी। कुछ ऐसा ही प्रचार था। एक दिन कुछ विद्यार्थियों को उस तक कुछ कागजात पहुंचाने के लिए कहा गया।  9 से 14 वर्ष तक के विद्यार्थी थे। सभी ने मना कर दिया। किसी ने एक बहाना बनाया तो किसी ने दूसरा। शिक्षिका पुस्तकालय में थी। अंत...

read more
ममी : कनक किशोर

ममी : कनक किशोर

महेश अपने बरामदे में टहल रहा था। वह अपने ही ख्यालों में डूबा हुआ था। मैं उसके नजदीक पहुंचा, पर उसे पता नहीं चला। मेरी आवाज को सुन मेरी ओर मुखातिब हो बोल पड़ा ‘तुम कब आए सुदेश? आओ आओ बैठो यार।’ पर उसकी बातों में वह खनक नहीं थी, जो उसकी पहचान थी। जिगरी था मेरा। बीस...

read more
उतरन : विष्णु सक्सेना

उतरन : विष्णु सक्सेना

- ताऊ प्रणाम, आपके लिए दीवाली उपहार लाया हूँ ! - आशीर्वाद बेटा। क्या लाया? - एप्पल वाच है, आधुनिकता की पहचान! बस साथ लगा यह बटन दबाओ, समय चमकने लगेगा। - बहुत बढ़िया, पर यह वाच बहुत महंगी होगी! - आपको उससे क्या लेना। यह तो आपको मेरी तरफ से उपहार है! - फिर भी! - बात ऐसी...

read more
गंदगी : शम्भू शरण सत्यार्थी

गंदगी : शम्भू शरण सत्यार्थी

बाप-बेटे दोनों पैदल बाजार जा रहे थे। गंदगी से सने नाली की सफाई कर रहे मजदूरों को देखकर। बेटे ने पूछा, ‘पापा, ये क्या कर रहे हैं?’ ‘अरे बेटा, ये लोग नाली की सफाई करने वाले लोग हैं।’ ‘क्या नाली की सफाई करने वाले अलग लोग होते हैं?’ ‘हां बेटा। वे छोटी जात के होते हैं।...

read more