विश्व दृष्टि
बंदूक की नोक पर जीत हासिल नहीं की जा सकती : फौजिया कूफी

बंदूक की नोक पर जीत हासिल नहीं की जा सकती : फौजिया कूफी

अफगानिस्तान नेशनल असेंबली की प्रथम महिला उपराष्ट्रपति, राजनीतिज्ञ, स्त्री अधिकारों के लिए आंदोलन करने वाली। दोहा शांति बैठक में तालिबानियों के साथ बात-चीत करने वाले दल की प्रमुख सदस्य हैं फौजिया कूफी। इनका साक्षात्कार लिया है आनंदबाजार पत्रिका की संवाददाता अग्नि राय...

read more
लैंग्स्टन ह्यूज की कविता फ्रीडम ट्रेन : अनुवाद बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’

लैंग्स्टन ह्यूज की कविता फ्रीडम ट्रेन : अनुवाद बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’

लैंग्स्टन ह्यूज़ (जीवनकाल : 1902-1967) : अमेरिका के प्रसिद्ध लोकप्रिय अश्वेत कवि। उन्होंने अपने विजन के प्रति ईमानदार रहते हुए अश्वेत-अमरीकी अनुभवों पर लगातार लेखन किया। बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’ : कवि और अनुवादक। 400 से अधिक विश्व कविताओं का हिंदी अनुवाद। कविता संग्रह...

read more
लुईस ग्लूक की 6 कविताएं

लुईस ग्लूक की 6 कविताएं

अजीब बात है कि सच को सच कहने से गुरेज़ करने वाली इस दुनिया ने अगर सबसे ज्यादा सवाल उठाए हैं, तो वह ज़िदगी की तल्ख़ हकीकतों के बीच की ज़िंदगी का रोमन बयान करने वाली कवियों की कौम है। अगर सबसे ज़्यादा दायरे किसी के आसपास खींचे हैं, तो वह 'कवि' है और जगह और ज़रूरत को लेकर सबसे...

read more
मंगलवार की झपकी : गैब्रियल गार्सिया मार्खेज

मंगलवार की झपकी : गैब्रियल गार्सिया मार्खेज

प्रमुख समीक्षक और अनुवादक, आलोचना पुस्तक : ‘क्षितिज के उस पार से' 6 मार्च 1927 को जन्मे, जादुई यथार्थवाद के चितेरे गैब्रियल गार्सिया मार्खेज एक बहुचर्चित, बहुविख्यात अमेरिकन स्पेनिश लेखक हैं. यह कहानी (ट्यूजडे सियेस्टा) मार्खेज के बचपन की एक स्मृति से प्रेरित कहानी...

read more
इतालवी कहानी : मर्तबान

इतालवी कहानी : मर्तबान

      एल. पिरानदेल्लो/ संदल भारद्वाज  इतावली कहानीकार/ अनुवादक   उस साल एक बार फिर ज़ैतून की फ़सल की भरपूर पैदावार हुई। कुछ मोटे और बूढ़े पेड़ पिछले साल से लदे पड़े थे,बावजूद उस घने कोहरे के, जिसकी वजह से उनमें बौर आने में काफ़ी देर हुई थी। उन सबसे भी इस...

read more