विश्व दृष्टि
ईरानी कविताएं :फारुग फरोख्जाद, अनुवाद :बालकृष्ण काबरा ‘ऐतेश’

ईरानी कविताएं :फारुग फरोख्जाद, अनुवाद :बालकृष्ण काबरा ‘ऐतेश’

हिंदी प्रस्तुति: बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’कवि और अनुवादक। कविता संग्रह ‘दूसरा चित्र’, ‘मन की स्याही’, ‘गीत अकवि का’ और ‘अपने-अपने ईमान’। अद्यतन कविता संग्रह ‘छिपेगा कुछ नहीं यहाँ’। विश्व साहित्य के अनुवादों के तीन संग्रह : ‘स्वतंत्रता जैसे शब्द’, ‘जब उतरेगी साँझ शांतिमय’...

read more
कैरोल एन डफी- (स्कॉटिश कविताएं) अनुवाद -बालकीर्ति कुमारी

कैरोल एन डफी- (स्कॉटिश कविताएं) अनुवाद -बालकीर्ति कुमारी

युवा कवयित्री। विविध पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित। संप्रति : स्वतंत्र लेखन कैरोल एन डफी(जन्म 1955) अंग्रेजी की प्रसिद्ध स्कॉटिश स्त्री स्वर। आत्मालाप शैली में प्रेम कविताओं के लिए प्रसिद्ध। इनकी कविताओं में समाज के हाशिए की आवाज प्रखर हुई है। ‘पोयट लारेट’ के रूप...

read more
बुल्गेरियाई कविताएं-अंग्रेजी से अनुवाद : दिविक रमेश

बुल्गेरियाई कविताएं-अंग्रेजी से अनुवाद : दिविक रमेश

दिविक रमेशसुप्रतिष्ठित कवि और लेखक। विविध विधाओं में लगभग 80 पुस्तकें प्रकाशित। साहित्य अकादेमी का बाल साहित्य पुरस्कार।स्टेंका पेंचेवा(1929 - 2014)। रेडियो सोफिया में संपादक के रूप में और नरोदना कुलटुरा अखबार में संवाददाता रहीं। निबंधों और लेखों की पुस्तकें भी...

read more
जन्मदिन (ईरानी कहानी) :महमूद फलाकी, अनुवाद :श्रुति जैन

जन्मदिन (ईरानी कहानी) :महमूद फलाकी, अनुवाद :श्रुति जैन

श्रुति जैनलेखिका और अनुवादक। जर्मन भाषा की शिक्षक के रूप में कार्य। सेंटर फॉर फॉरेन लैंग्वेजेज, ओ.पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी, सोनीपत, हरियाणा में एसोसिएट प्रोफेसर। जैसे ही मेट्रो रुकती है और उसका दरवाजा खुलता है वह अपना छोटा-सा हाथ मेरे हाथ से छुड़ाती है और अंदर...

read more
नैंसी मोरखोन की कविताएं (क्यूबा), मूल स्पेनिश से अनुवाद :अश्वनी कुमार

नैंसी मोरखोन की कविताएं (क्यूबा), मूल स्पेनिश से अनुवाद :अश्वनी कुमार

अश्वनी कुमारअंग्रेजी और विदेशी भाषा विश्वविद्यालय, हैदराबाद में स्पेनी भाषा के सहायक प्राध्यापक। नैंसी मोरखोनक्यूबा की सुप्रसिद्ध कवयित्री। ये कविताएं उनकी किताब ‘अश्वेत स्त्री और दूसरी कविताएं’ से ली गई हैं। नैंसी मोरखोन क्यूबा के साहित्य का राष्ट्रीय पुरस्कार के साथ...

read more
लेडी लैजरस : सिल्विया प्लाथ, अनुवाद : उपमा ॠचा

लेडी लैजरस : सिल्विया प्लाथ, अनुवाद : उपमा ॠचा

(२७ अक्टूबर, १९३२ - ११ फरवरी, १९६३) एक टिप्पणी कवि एवं कविता के बारे में : पूर्णतावादी अमरीकी लेखिका सिल्विया प्लाथ मध्यमवर्गी माता-पिता की संतान थीं। उन्होंने उपन्यास और कहानियों भी लिखीं, किंतु वे एक संवेदनशील कवयित्री के रूप में अधिक सराही गईं। मुख्यत: आत्मकथात्मक...

read more
चुप्पियों को आवाज़ देने वाली कलम-जॉन फॉसे : उपमा ऋचा

चुप्पियों को आवाज़ देने वाली कलम-जॉन फॉसे : उपमा ऋचा

जब मैं कुछ ठीकठाक लिखने में कामयाब हो जाता हूं, तब एक दूसरी भाषा प्रकट होती है। मूक भाषा... यह भाषा बताती है यह सब क्या और किसलिए था। यह कोई कहानी नहीं, लेकिन आप इसके पीछे तैरता हुआ सा कुछ सुन सकते हैं। एक मूक भाषा को बोलते हुए! यही बात मेरे लिए साहित्य को महत्वपूर्ण...

read more
जॉन फॉसे की कविताएं, अंग्रेजी से अनुवाद : उपमा ऋचा

जॉन फॉसे की कविताएं, अंग्रेजी से अनुवाद : उपमा ऋचा

(1959 नॉर्वे)। नोबल साहित्य पुरस्कार 2023 से सम्मानित कवि, उपन्यासकार और नाटककार। एक इंसान यहां एक इंसान होता हैऔर फिर गुम हो जाता है एक ऐसी हवा मेंजो मिटती जाती है अंदर ही अंदरऔर जा मिलता है चट्टानों की गति सेऔर फिरएक सन्नाटे मेंक्या होता हैक्या नहींके निरंतर योग...

read more
लोर्का की कविताएं, अनुवाद : मंजु श्रीवास्तव

लोर्का की कविताएं, अनुवाद : मंजु श्रीवास्तव

अनुवादक - मंजु श्रीवास्तवआकाशवाणी में उद्घोषणा के कार्य।कविता संग्रह : ‘हजार हाथ’।बांग्ला और अंग्रेजी से कई रचनाओं का अनुवाद। फेडरिको गार्सिया लोर्का ने अपने 38 साल के जीवन में साहित्य, रंगमंच और चित्रकला में अपनी खास जगह बनाई। संगीत का भी उन्हें अच्छा ज्ञान था। वे...

read more
पांव का मोल : हाइनरिश ब्योल, मूल जर्मन से अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी

पांव का मोल : हाइनरिश ब्योल, मूल जर्मन से अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी

मूल जर्मन से अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी1984 से जर्मन भाषा की शिक्षक। जर्मन साहित्य के कई रचनाकारों का हिंदी में अनुवाद। एक निजी इंस्टीट्यूट में जर्मन भाषा का अध्यापन कर रही हैं। मैक्समूलर भवन के केंद्रीय विद्यालय प्रोजेक्ट के लखनऊ क्षेत्र की समन्वयक। हाइनरिश ब्योल...

read more
कन्नड़ भक्ति काव्य – वचन : अक्क महादेवी, भावांतरण : सुभाष राय

कन्नड़ भक्ति काव्य – वचन : अक्क महादेवी, भावांतरण : सुभाष राय

अक्क महादेवी 12वीं शताब्दी में कर्नाटक की एक विलक्षण संत कवि रही हैं। उनके वचनों में अद्वितीय भाव संपन्नता है। कन्नड़ और अंग्रेजी में उनपर विपुल काम हुआ है। उनके वचनों का ए. के. रामानुजन, एम एम कलबुर्गी, एच. एस. शिवप्रकाश, विनय चैतन्य सहित अनेक विद्वानों ने अंग्रेजी...

read more
मैं हमेशा किसी अप्रत्याशित विश्वासघात का सपना देखता हूँ.

मैं हमेशा किसी अप्रत्याशित विश्वासघात का सपना देखता हूँ.

निधन मिलान कुंदेरा : (1 अप्रैल 1929/11 जुलाई 2023)। ‘पहली रचना के साथ ही मुझे यक़ीन हो गया था कि मैंने ख़ुद को पा लिया है। तब से मेरे (सौंदर्य) बोध ने कोई परिवर्तन नहीं जाना। यह उसी एक लीक पर बढ़ता रहा। आज मैं संतुष्ट हूँ कि मैं एक लेखक, एक उपन्यासकार बना, क्योंकि मैं...

read more
चेन मेताक की तिब्बती कविताएँ, हिंदी प्रस्तुति : बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’

चेन मेताक की तिब्बती कविताएँ, हिंदी प्रस्तुति : बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’

हिंदी प्रस्तुति : बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’कवि और अनुवादक।कविता संग्रह ‘दूसरा चित्र’, ‘मन की स्याही’, ‘गीत अकवि का’ और ‘अपने-अपने ईमान’। अद्यतन कविता संग्रह ‘छिपेगा कुछ नहीं यहाँ’। विश्व साहित्य के अनुवादों के तीन संग्रह : ‘स्वतंत्रता जैसे शब्द’, ‘जब उतरेगी साँझ शांतिमय’...

read more
दुल्हन का गीत : क्रिस्टीना जोर्जिना रोसेट, अनुवाद : उपमा ॠचा

दुल्हन का गीत : क्रिस्टीना जोर्जिना रोसेट, अनुवाद : उपमा ॠचा

(5 दिसंबर 1830-29 दिसंबर 1894, लंदन) प्रेम, अध्यात्म और बाल कविता लिखने वाली अंग्रेजी लेखिका, विक्टोरियन पोइट्री का महत्वपूर्ण स्वर । इनका रचना संसार अंग्रेजी साहित्य में अपनी रहस्यवादी, प्रतीकात्मक शैली और गहन अनुभूति के लिए जाना जाता है।  प्रेम के लिए बहुत देर हो...

read more
मारियो द आंदरेदे (ब्राजील), अनुवाद : बालमुकुंद नंदवाना

मारियो द आंदरेदे (ब्राजील), अनुवाद : बालमुकुंद नंदवाना

कवि लेखक और अनुवादक। (१८९३-१९४५) कवि, उपन्यासकार, आलोचक, कला इतिहासकार, संगीतशास्त्री और छायाचित्रकार। ‘हैल्लूसिनेटेड सिटी’ उनका अति महत्वपूर्ण कविता संग्रह है।मारियो का ब्राजील के आधुनिक साहित्य पर गहरा प्रभाव है।संगीत के क्षेत्र में इनका महत्वपूर्ण काम है।मेरी आत्मा...

read more
प्रस्फुटन : ज़ैनब अख़्लाकी, हिंदी प्रस्तुति : बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’

प्रस्फुटन : ज़ैनब अख़्लाकी, हिंदी प्रस्तुति : बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’

हिंदी प्रस्तुति : बालकृष्ण काबरा ‘एतेश’कवि और अनुवादक।अद्यतन कविता संग्रह : ‘छिपेगा कुछ नहीं यहां’।विश्व काव्यों के अनुवादों के दो संग्रह ‘स्वतंत्रता जैसे शब्द’ और ‘जब उतरेगी सांझ शांतिमय’ और विश्व कथाओं और लेखों का संग्रह प्रकाशित ‘ये झरोखे उजालों के’। ज़ैनब अख़्लाकी...

read more
ऐनी सेक्सटन (अमेरिका), अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

ऐनी सेक्सटन (अमेरिका), अनुवाद : अवधेश प्रसाद सिंह

  वरिष्ठ लेखक, भाषाविद और अनुवादक।   (१९२८-७४) अमेरिकी कवयित्री। ‘लिव ऑर डाइ’ पुस्तक के लिए पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित। साहस साहस हम देखते हैंछोटी-छोटी चीजों मेंजैसे बच्चे के पहले कदम मेंभूकंप जैसे भयानक समय मेंपहली बार बाइक चलाते समयजब आप गिरे होंगे पटरी...

read more
जिया यू (ताइवान), अनुवाद : राजेश कुमार झा

जिया यू (ताइवान), अनुवाद : राजेश कुमार झा

अनुवाद, लेखन तथा संपादन का लंबा अनुभव। आकाशवाणी में निदेशक के पद पर। जिया यू(जन्म : १९५६)ताइवान के महत्वपूर्ण कवियों में एक।जिया यू कविताओं के अलावा गीतकार और नाटककार के रूप में भी जानी जाती हैं।पहला कविता संग्रह १९८० में प्रकाशित।प्रेम से संबंधित कविताओं को अपने खास...

read more
ओरहान पामुक से निर्मला लक्ष्मण का साक्षात्कार

ओरहान पामुक से निर्मला लक्ष्मण का साक्षात्कार

राजनीति के बारे में सोचने के बजाय एक सुंदर उपन्यास लिखना मेरी प्राथमिकता है ओरहान पामुकनोबेल पुरस्कार से सम्मानित तुर्की लेखक। ‘माई नेम इज रेड’, ‘द म्युजियम ऑफ द इनोसेंस’, ‘स्नो’ आदि प्रसिद्ध पुस्तकें।अद्यतन उपन्यास ‘द नाइट्स ऑफ प्लेग’।(२००६ के साहित्य के नोबेल...

read more
तुर्की-सीरिया भूकंप – कुछ कविताएं, अनुवाद -अवधेश प्रसाद सिंह

तुर्की-सीरिया भूकंप – कुछ कविताएं, अनुवाद -अवधेश प्रसाद सिंह

    वरिष्ठ लेखक, भाषाविद और अनुवादक। तुर्की और सीरिया में मरनेवालों की संख्या लगभग ४१ हजार से ऊपर पहुंच गई है।विश्व में ऐसा विनाशकारी भूकंप बहुत कम आया है।हजारों मकान ढेर हो गए।जिन सड़कों पर भारी ट्रैफिक रहती थी, वहां धूल-धूसरित शवों के स्तूप बन गए।बर्फीली...

read more