विश्व दृष्टि
दुन्या मिखाइल/निज़ार कब्बानी/अर्नेस्टी कार्डेनल/महमूद दरवेश की कविताएं अनुवाद :गौरव गुप्ता

दुन्या मिखाइल/निज़ार कब्बानी/अर्नेस्टी कार्डेनल/महमूद दरवेश की कविताएं अनुवाद :गौरव गुप्ता

युवा कवि, अनुवादक।कविता संग्रह- ‘तुम्हारे लिए’। दुन्या मिखाइल 1965 में जन्मी दुन्या मिखाइल अरबी भाषा की इराकी कवि हैं।अपने लेखन के कारण अधिकारियों से प्रताड़ित होने के बाद उन्होंने अमेरिका में शरण ली। धन्यवाद मैं उन सभी को धन्यवाद देती हूँजिन्हें मैं प्यार नहीं करतीवे...

read more
एक शाम डॉक्टर फ़ाउस्ट के साथ : हरमन हेस, हिंदी रूपांतरण : विजय शर्मा

एक शाम डॉक्टर फ़ाउस्ट के साथ : हरमन हेस, हिंदी रूपांतरण : विजय शर्मा

मूल जर्मन : हरमन हेस, (2 जुलाई 1877-9 अगस्त 1962) नोबेल पुरस्कार से सम्मानित जर्मन साहित्यकार।मुख्य रूप से अपने तीन उपन्यासों ‘सिद्धार्थ’, ‘स्टेपेनवौल्फ़’ और ‘मागिस्टर लुडी’ के लिये परिचित।अपनी मृत्यु के बाद यूरोप में युवा वर्ग के बीच अत्यंत लोकप्रिय। प्रस्तुत है राल्फ़...

read more
अमरीकी कविता- तेवा इंडियन

अमरीकी कविता- तेवा इंडियन

आदिवासी गीत ओ! हमारी धरती माता, ओ! हमारे पिता आकाशहम आपके बच्चे हैंऔर अपनी पीठ पर लाद कर लाए हैंआपके लिए उपहारजिसे आप पसंद करते हैंजिससे आप बुनें हमारे लिए एक चमकदार वस्त्रजिसके ताने हों सुबह के लाल आलोकजिसके बाने हों संध्या के रक्तिम प्रकाशजिसके कोर हों बारिश की...

read more
नेटिव अमरीकी कविता- एन. स्कॉट मोमादे

नेटिव अमरीकी कविता- एन. स्कॉट मोमादे

(जन्म :1934) किओवा इंडियन विरासत के प्रमुख देशी अमरीकी कवि।देशी अमरीकी साहित्य में नवजागरण के अग्रदूत।पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित।सोइ-टाली का गीत मैं हूँ उजले आसमान का एक पंखएक नीला घोड़ा दौड़ता हुआ मैदान मेंमैं हूँ मछली जो तैरते हुए चमक रही है जल मेंमैं हूँ एक बच्चे...

read more
अमरीकी कविता-1 ज्वॉय हारजो

अमरीकी कविता-1 ज्वॉय हारजो

(जन्म :1951) आदिवासी कवयित्री तथा एकेडमी ऑफ अमेरिकन पोएट्स की चांसलर तथा ख्यातिप्राप्त एमविस्कोक क्रीक नेशन की सदस्य।उनकी अनेक पुस्तकों ने सराहना अर्जित की है।याद रखो याद करो उस आकाश कोजिसके नीचे तुम पैदा हुए होजानो हर तारे की कहानीयाद करो चांद को जानो कि वह कौन हैयाद...

read more
जर्मन कहानी जेनेवा झील के किनारे : स्टीफान ज्वाइग, अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी

जर्मन कहानी जेनेवा झील के किनारे : स्टीफान ज्वाइग, अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी

स्टीफान ज्वाइग (1881-1942)।अपने समय के प्रसिद्ध जर्मन उपन्यासकार, नाटककार व जर्नलिस्ट।प्रमुख रचनाएं ‘द रॉयल गेम’, ‘अमोक’, ‘लेटर फ्रॉम एन अननोन वुमेन’, ‘कनफ्यूज़न’ आदि।22 फरवरी 1942 में आत्महत्या कर ली थी। अनुवाद : शिप्रा चतुर्वेदी 1984 से जर्मन भाषा की शिक्षक। जर्मन...

read more
यूक्रेन की कविताएं, अनुवाद : राजेश कुमार झा

यूक्रेन की कविताएं, अनुवाद : राजेश कुमार झा

राजेश कुमार झा लेखक और अनुवादक। ल्युबा याकिमचुक यूक्रेनी कवि, पटकथा लेखक और पत्रकार।अनेक काव्य संग्रह प्रकाशित।अनेक साहित्यिक पुरस्कारों से सम्मानित।यूक्रेन के अलावा कई देशों में इनकी रचनाएं प्रकाशित।इनकी कविताओं में युद्ध और विस्थापन की पीड़ा झलकती है।आलोचकों का कहना...

read more
मैं ‘फेमिनिस्ट’ लफ़्ज़ को जानने से पहले ही ‘फेमिनिस्ट’ बन चुकी थी!

मैं ‘फेमिनिस्ट’ लफ़्ज़ को जानने से पहले ही ‘फेमिनिस्ट’ बन चुकी थी!

अरबी-भाषा के कई प्रकाशनों और न्यूयार्क टाइम्स, वाशिंगटन पोस्ट, द गार्जियन आदि के लिए नियमित लिखने वाली मोना एल्तहावी एक प्रमुख अमेरिकी आप्रवासी लेखिका और पत्रकार हैं।स्त्री अधिकारों की एक प्रबल समर्थक।इनकी रचनाओं में अरब संसार में स्त्री के स्थान और स्थिति का बयान...

read more
मेडागास्कर की कविताएं : जीन जोसेफ रेबियारिवेलो, अनुवाद राजेश कुमार झा

मेडागास्कर की कविताएं : जीन जोसेफ रेबियारिवेलो, अनुवाद राजेश कुमार झा

राजेश कुमार झा लेखक और अनुवादक। जीन जोसेफ रेबियारिवेलो जीन जोसेफ रेबियारिवेलो (1901-37) को 20वीं सदी के मेडागास्कर का महानतम कवि माना जाता है।उन्हें अफ्रीका के पहले आधुनिक कवि का दर्जा भी प्राप्त है।वे मालागासी तथा फ्रेंच में रचना करते थे।मेडागास्कर के अन्य कवियों के...

read more
फैसला : रूमी लश्कर बोरा, अनुवाद : देवेंद्र कुमार देवेश

फैसला : रूमी लश्कर बोरा, अनुवाद : देवेंद्र कुमार देवेश

सुपरिचित कवि।अद्यतन संपादित कहानी संग्रह ‘कोसी की नई जमीन’।साहित्य अकादेमी पूर्वी क्षेत्र के सचिव। रूमी लश्कर बोरा असमिया की सुपरिचित लेखिका एवं सामाजिक कार्यकर्ता।एक दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।जरूरत से कहीं अधिक ही सेवा की थी सिस्टर सुकन्या ने।ड्यूटी के लिए...

read more
नाबो-अश्वेत व्यक्ति जिसने फरिश्तों से प्रतीक्षा करवाई : गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़, अनुवाद : मंजुला वालिया

नाबो-अश्वेत व्यक्ति जिसने फरिश्तों से प्रतीक्षा करवाई : गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़, अनुवाद : मंजुला वालिया

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया सेस्वैच्छिक सेवानिवृत्ति। वर्तमान में NGO ‘संवेदना’ और CAGE से संबद्ध। गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़ (1928-2014) नोबेल पुरस्कार से सम्मानित विश्व प्रसिद्ध लैटिन अमेरिकी कथाकार।प्रसिद्ध उपन्यास है ‘एकांत के सौ वर्ष’ (वन हंड्रेड इयर्स ऑफ...

read more
सोच का एक दूसरा रास्ता हमेशा होता है : अब्दुलरजाक गुरना का विचारलोक

सोच का एक दूसरा रास्ता हमेशा होता है : अब्दुलरजाक गुरना का विचारलोक

लेखक और अनुवादक। यूनिवर्सिटी ऑफ केंट से अंग्रेजी और उत्तर-औपनिवेशिक साहित्य के रिटायर्ड प्रोफेसर अब्दुलरजाक गुरना का जन्म 1948 में तंजानिया के जंजीबार में हुआ था| 1960 के दशक में परिस्थितियों ने उनके नाम के साथ शरणार्थी की पहचान जोड़ दी| उसी पहचान को लेकर वे यूनाइटेड...

read more
जार्जियन कवयित्री इका केवनिशविली की कविता : अनुवाद अवधेश प्रसाद सिंह

जार्जियन कवयित्री इका केवनिशविली की कविता : अनुवाद अवधेश प्रसाद सिंह

लेखक, भाषाविद और अनुवादक। जार्जियन कवयित्री इका केवनिशविली पेशे से पत्रकार हैं, जो मानवाधिकार के क्षेत्र में विशेष रूप से सक्रिय हैं। उनके चार कविता-संग्रह, एक कहानी संग्रह और कई निबंध प्रकाशित हो चुके हैं। कई पुरस्कारों से सम्मानित।आज मेरे पति देर रात घर आने वाले...

read more
स्वप्न : लैंग्स्टन ह्यूज़, अनुवाद : महिमा श्रीवास्तव

स्वप्न : लैंग्स्टन ह्यूज़, अनुवाद : महिमा श्रीवास्तव

महिला रोग चिकित्सक, वरिष्ठ आचार्य लैंग्स्टन ह्यूज़  (1902- 1967) अमरीकी कवि, सामाजिक कार्यकर्ता, उपन्यासकार और नाटककार।जाज़ कविता के प्रारंभकर्ताओं में से एक।स्वप्नों को कसके पकड़े रखो क्योंकि यदि स्वप्न मरे तो जीवन एक कटे परवाली चिरैया है जो उड़ नहीं सकती स्वप्नों को...

read more
अफ़गानिस्तान की कविताएं

अफ़गानिस्तान की कविताएं

1अफ़गानिस्तान की बेटी : नदिया अंजुमन (1980-2005) मैं नहीं चाहती कि अपनी जुबां खोलूंआख़िर खोल भी लूं, तो बोलूंगी क्या?(क्योंकि) मैं वो हूं, जिससे उसकी उम्र भी नफरत करती रहेगी ताउम्रभले मैं कुछ बोलूँ या नहींमेरी उम्र मुझसे करती रहेगी नफरत ताउम्र मैं कैसे गाऊं गीत शहद...

read more
अमेरिकी कविताएं : एलिस वॉकर, अनुवाद : प्रोमिला

अमेरिकी कविताएं : एलिस वॉकर, अनुवाद : प्रोमिला

अनुवाद, नाटक और रंगमंच में विशष रुचि। अंग्रेजी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय, हैदराबाद में असिस्टेंट प्रोफेसर। एलिस वॉकर 1944 में अमेरिका में जन्मी एलिस वॉकर आज की एक प्रसिद्ध कवयित्री और कथाकार हैं। 1983 में इन्होंने ‘नारीवाद’ शब्द की परिल्पना प्रस्तुत की थी। इन्हें...

read more
स्वप्न : लैंग्स्टन ह्यूज़, अनुवाद : महिमा श्रीवास्तव

स्वप्न : लैंग्स्टन ह्यूज़, अनुवाद : महिमा श्रीवास्तव

महिला रोग चिकित्सक, वरिष्ठ आचार्य लैंग्स्टन ह्यूज़  (1902- 1967) अमरीकी कवि, सामाजिक कार्यकर्ता, उपन्यासकार और नाटककार।जाज़ कविता के प्रारंभकर्ताओं में से एक। स्वप्नों को कसके पकड़े रखो क्योंकि यदि स्वप्न मरे तो जीवन एक कटे परवाली चिरैया है जो उड़ नहीं सकती स्वप्नों...

read more
कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

कहो हां या ना : तोबियस वुल्फ़, अनुवाद : उपमा ऋचा

पिछले एक दशक से लेखन में सक्रिय। संप्रति स्वतंत्र पत्रकार और अनुवादक तोबियस वुल्फ 19 जून 1945 को जन्मे तोबियस वुल्फ़ एक अमेरिकन राइटर और क्रिएटिव राइटिंग टीचर हैं। कहानियों लिखने के साथ-साथ वुल्फ़ ने संस्मरण और उपन्यास भी लिखे हैं। लेकिन ख़ासतौर पर वे अपने संस्मरणों के...

read more
महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

महामारी के बीच जीवन- दो कविताएं, अनुवाद : उपमा ऋचा

आर्थर वाली 19 अगस्त 1889-27 जून 1966इंग्लिश प्राच्य विद्वान, चीनी भाषाविद एवं अनुवादकसेंसरशिप मुश्किल नहीं हैपरदेस की खबरों को सेंसर करनाअलबत्ता मुश्किल हैखुद अपने ख्यालों को सेंसर करनाचुपचाप बैठे रहनाऔर देखना अंधे घोड़े पर सवार बूढ़े कोजो देख नहीं सकतामगर फिर भी दौड़ा...

read more
जार्जियन कवयित्री इका केवनिशविली की कविता : अनुवाद अवधेश प्रसाद सिंह

जार्जियन कवयित्री इका केवनिशविली की कविता : अनुवाद अवधेश प्रसाद सिंह

लेखक, भाषाविद और अनुवादक। जार्जियन कवयित्री इका केवनिशविली पेशे से पत्रकार हैं, जो मानवाधिकार के क्षेत्र में विशेष रूप से सक्रिय हैं। उनके चार कविता-संग्रह, एक कहानी संग्रह और कई निबंध प्रकाशित हो चुके हैं। कई पुरस्कारों से सम्मानित। आज मेरे पति देर रात घर आने वाले...

read more