ख़ुशक़िस्मत : रावेल पुष्प

ख़ुशक़िस्मत : रावेल पुष्प

वरिष्ठ पत्रकार और कवि। कोरोना महामारी में वे सब अपने गांव पैदल ही चल पड़े थे। महामारी में उनके जैसे कई मजदूरों का काम छिन गया था। वैसे कुछ सामाजिक संस्थाओं द्वारा सहायता दी जा रही थी और गुरुद्वारों से लंगर भी मिल रहा था, लेकिन उनकी घर जाने की इच्छा बलवती हो उठी।...