वरिष्ठ कथाकार। इज्जत’, ‘गोस्टा तथा अन्य कहानियां’, ‘हादसा’, ‘मेरी प्रिय कथाएंऔर हल्ला’ (कहानी संग्रह)

 

तुलसा की निश्चिंतता खरे साहब को हैरानी में डाल रही थी।… और यह निश्चिंतता उन्हें ही क्या किसी को भी हैरान कर सकती थी। जब किसी की जवान बेटी एकाएक किसी के साथ बिना बताए घर से भाग जाए और बाप एकदम निश्चिंत बना रहे तो कौन सामान्य रह सकता था भला! लेकिन तुलसा ऐसा ही प्रदर्शित कर रहा था, …उन्हें  लगता है कि प्रदर्शित नहीं कर रहा बल्कि सच में भीतर ऐसा ही फील कर रहा था वह।

खरे साहब बड़बड़ाए- ‘ताज्जुब है ऐसा बेशर्म बाप नहीं देखा।’

उन्हें लगा कि बाहर से देखने में तो तुलसा ऐसा नहीं दिखता फिर क्यों ऐसा कर रहा है? वे सेाच में डूब गए…।

तुलसा यानी उनके क्वार्टर समेत अनेक सरकारी आवासों के बागीचों और लॉन की देखभाल करने वाला भोला और ईमानदार आदिवासी सरकारी माली। वह रोज सुबह उनके बंगले के लॉन की देखभाल करता है। आज भी रोज की तरह अपना काम काज निपटाकर वह सलाम करने आया तो सदा की तरह तुरंत गया नहीं, बल्कि उनके सामने जमीन पर ही बैठ गया।

खरे साहब ने प्रश्नवाचक निगाहों से घूरा तो वह सकपका गया था,  बोला, ‘साहब, मैं परसों-तरसों तक काम करने नहीं आ सकूंगा।’

‘क्यों, ऐसा क्या काम आ गया। तुम तो कभी छुट्टी नहीं मांगते!’ उन्हें न उत्सुकता थी न कोई सरोकार, फिर भी एक सहज चालाक मालिक की तरह उन्होंने पूछ ही लिया।

‘साहब मेरी छोकरी भाग गई कल के भगोरिया मेले में..!’ निर्पेक्ष सा तुलसा बोला था तो वे चौंक उठे थे। तुलसा को देखा तो वह सहज था और आगे बता रहा था, ‘उधर के गांव का एक लड़का भी घर से भागा है। ऐसा पता लगा है कि दोनों साथ-साथ…।’

‘तुम मेरे साथ थाने चलो…’ अपने सहायक की मदद को तैयार होता उनके भीतर का अफसर तन कर खड़ा हो गया था, ‘हम लोग उस लड़के और उसके पूरे कुनबा के खिलाफ रपट दर्ज करा देते हैं।’

‘नई साब, ऐसा नहीं कर सकता मैं, ऐसा कर दिया तो मर ही जाऊंगा। मेरी बिरादरी के लोग जाति बाहर कर देंगे मुझे, फिर मेरा अपने समाज में जीना ही मुश्किल हो जाएगा।’ तेज कांपता सा बोला था तुलसा।

‘अरे, ये कैसा रिवाज है तुम्हारी बिरादरी का?’ वे चकित थे।

‘हमारे इधर ऐसा ही चलता है साब! ऐसे ही शादी-ब्याह होते हैं हमारे यहां!’

‘तो तुम क्या करोगे अब?’

‘उस लड़के के बाप के साथ लड़ाई झगड़ा करने जाना होगा।’

‘गजब करते हो यार, कानूनी मदद के लिए पुलिस के पास जाना नहीं चाहते और खुद फौजदारी करने पर उतारू हो।’

‘इधर ऐसा ही चलन है साहब। वो तो झूठमूठ की लड़ाई होती है हमारी।’

‘लड़ाई भी झूठमूठ की…?’ बुदबुदाते खरे साहब एक मिनट को खामोश हुए, फिर बोले थे, ‘तुम जैसा ठीक समझो निपटा लो, न निपटे तो मुझे बताना।’

तुलसा उठा और फिर झुककर सलाम करता हुआ बाहर चला गया था।

तुलसा तो चला गया पर खरे साहब एक बार फिर उस द्वंद्व में फंस गए थे जहां पिछले चार दिन से हर रात बसेरा करते हैं वे अपने पलंग पर लेट कर और हर वह बाप करता है जिसकी बेटी जवान हो रही होती है। इस इलाके में जब से आए हैं तमाम नई चीजें चौंकाने लगी हैं उन्हें।

पिछले साल इस आदिवासी इलाके में  तबादले का सरकारी हुकमनामा मिला तो बड़े खुश हुए थे वे, मन की यह मुराद पूरी होने जा रही थी कि किसी पिछड़े क्षेत्र में रह कर वाकई विकास के काम कराएं, न कि विकसित जिलों की तरह झूठेसच्चे पत्रक भरें। आदेश मिलने के हफ्ते भर के भीतर अपना बोरिया बिस्तर बांध कर ग्वालियर से इधर चले आए थे वे।

उनकी बेटी ग्यारहवें दर्जे में पढ़ रही थी और बेटा नवें दर्जे में था। मिशनरी द्वारा चलाए जा रहे एक पब्लिक स्कूल में दोनों का एडमीशन कराके वे निश्चिंत हुए और अपने काम-काज में लग गए थे।

यहां आकर जाना था उन्होंने कि इस इलाके में विकास अधिकारी का बेहतर उपयोग करती है सरकार। एक महीने में अपने पद की उपयोगिता महसूस कर पूरी रुचि से काम करने लगे।

रुचि से काम करने का एक कारण और था कि चंबल के आम वाशिंदों के झगड़ालू स्वभाव से इतने बरसों से अब आजिज आ चुके थे वे, भले ही खुद उसी इलाके के वासी थे। यहां के किसी भी आदमी का स्वभाव झगड़ालू न था, बल्कि अपना काम शांति से कराने में विश्वास करता था इधर का आदमी।

चार दिन पहले की रात उन्हें ठीक से याद है। पत्नी सोनल ने डरते हुए बताया उन्हें, ‘नाराज मत होना, एक जरूरी बात करनी है।’

‘बोलो, बोलो!’ वे उत्सुक थे।

‘अपनी तान्या को कैसे संभालूं, यह समझ में नही आ रहा।’

वे चौंके, ‘क्या हुआ तान्या को?’

‘हुआ कुछ नहीं है। में देख रही हूँ कि वह अपने सहपाठी अलपेश के साथ कुछ ज्यादा ही वक्त बिता रही है आजकल।’

‘कौन है अलपेश?’

‘आपकी कलेक्टोरेट के ही किसी अफसर का बेटा है- बनर्जी साहब हैं कोई।’

‘होंगे।’ उन्होंने बिना सोचे कहा फिर सोनल से बोले ‘ज्यादा वक्त बिताने से क्या मतलब है तुम्हारा!’

‘स्कूल से लौटकर दिन में कई दफा फोन पर बात करती है तान्या उससे।’

‘तुमने सुनी कभी उनकी बातें?…कैसी बातें करती है वह! बित्ते भर की तो छोकरी है अभी।’

‘बातें तो वही पढ़ाई-लिखाई और स्कूल की करते हैं, लेकिन आखिर बेटी की जात है, इस तरह किसी लड़के से दोस्ती रखना…’

‘तुम भी पुराने जमाने की हो अब तक। अरे जब कुछ ऐसा-वैसा नहीं सुना तो काहे को परेशान हो’ एक अनुभवी अफसर पिता पर हावी हो उठा था।

‘ऐसा वैसा सुनने का इंतजार काहे करें। मैं चाहती हूँ कि शुरू से ही क्यों न इस मेल-मिलाप पर बंदिश लगा दी जाए।’

‘तो क्या घर बैठा लोगी उसे?’

‘नहीं, आप तो उन बनर्जी साहब से कहके उनके लड़के को थोड़ा डांट-फटकार दिलवा दो, इससे शायद…’ इसरार करती सोनल का वाक्य अधूरे में दम तोड़ गया था।

वे हँसे, ‘तुम्हारी मति मारी गई है क्या? समझाना है तो अपनी बेटी को समझाओ मैं डांटता हूँ उसे अभी। जरा बुलाओ तो…!’

‘पागल हुए हो क्या? इस वक्त आधी रात को! और फिर सीधा आपका कहना ठीक नहीं होगा।’ परेशान होती सोनल के चेहरे पर बेचारगी के भाव थे।

‘तो तुम जैसा ठीक समझो वैसा करना’ कहते उन्होंने आंख मींच लीं थी, सोने के लिए।

‘मैं ही तो कुछ ठीक नहीं समझ पा रही। ऐसा करती हूँ कि निशा दीदी से पूछूंगी…’ अपने में गुम होती सोनल बुदबुदा उठी।

वे चौंके, ‘अरे उन तक बात मत पहुंचाना। वे जाने क्या सोचें और जाने कहां-कहां क्या कह दें।’

‘तुम अपनी सगी भाभी पर शंका कर रहे हो। …घर की समस्या पर घर में ही तो विचार-विमर्श करना होगा। दो बेटियां पाली हैं, उन्हें ज्यादा तजुर्बा है ऐसी बातों का।’ तुनकती सोनल उठ कर बैठ गई थी।

सोनल को आगे कोई जवाब दिए बिना वे करवट बदल कर लेट गए और मन से एकाग्र हो नींद का इंतजार करने लगे थे।

…लेकिन नींद ऐसे नहीं आना थी।

उन्होंने तब सोनल को तो समझा दिया, लेकिन अपने मन को किस तरह समझाते! उन्हें अचानक अपने आसपास के परिवेश पर गुस्सा आ गया, वे झुंझला उठे समाज के बदलते परिवेश पर। च्च च्च च्च, मिटा डाला इन सोप ऑपेराओं ने हमारे समाज को!

जिस चैनल पर देखो वहां ऐसी ऐसी कहानियां मौजूद हैं कि सारी शर्मलिहाज खत्म हो रही है। हर कहानी में हर औरत के अनगिन अवैध संबंध, देखने को मिलते है और वह भी बिना किसी गिल्टी कांशस के। जिस म्युजिक चैनल पर नजर डालो वहां बदन पर नाम मात्र की चिंदियां बांधे अश्लील मुद्रा में मटकते नर्तक और युवतियां। दरअसल प्रेमप्यार का मतलब सिर्फ दैहिक सरोकार और कामसूत्र की आसन सिखाती फिल्में जिस उत्तर आधुनिक युग में ले आई हैं इस देश को, अभी उसके काबिल ही कहां था यहां का आम जन!

अगर सोनल की आशंका सच है तो अभी ही टोकना होगा तान्या को, अभी आरंभ है बात संभल जाएगी। अन्यथा बात बिगड़ने में समय ही क्या लगता है? बहुत से अच्छे-अच्छे घरों की छीछालेदर होते देखी है खरे साहब ने ऐसे मामलों में।

उस दिन मन की बात मन में रह गई। रात पूरी यों ही बीत गई पर मन का क्लेश न मिटा। तब से हर रात यही हो रहा है। …आज तुलसा ने तो एक वैचारिक भंवर में ला पटका उन्हें, उस दिन भी ऐसा ही लगा था ढंके तौर पर।

वे भगोरिया मेलों की सार्थकता-निरर्थकता में उलझ गए।

लगभग दस दिन पुरानी बात है, उस दिन वे दफ्तर में उदास से बैठे थे कि बड़े बाबू झिझकते से भीतर घुसे, ‘आ सकता हूँ सर!’

‘हां, आओ न!’ उनकी चिंतित निगाहें पचास साल में बूढ़े हो चुके बड़े बाबू के चेहरे पर गड़ी।

‘इधर के आदिवासी अंचल में इन दिनों भगोरिया मेले चल रहे हैं साहब। आपने तो देखे नहीं होंगे, आज चलें देखने को …मैंने एक सरपंच से बात कर ली है।’

‘भगोरिया माने…’

‘भगोरिया माने… माने… ये कहें कि आदिवासियों का बसंतोत्सव! फागुन के महीने में हर साल गांव गांव में मनाया जाता है भगोरिया। होडी का डांड़ा गढ़ा नहीं कि भगोरिया चालू हो जाते हैं इस अंचल में। जिस गांव में जिस दिन की हाट हो उसी दिन वहां का भगोरिया मेला तय रहता है अपने आप।’

‘चलो, देखते हैं। …कब चलना है?’

‘आज ही चलें साहब।’

जीप गांव के भीतर न जा सकी, गांव के बाहर ही उतरना पड़ा उन्हें। भारी भीड़ थी गांव में। गली-मुहल्ले, चौक-चौगान में उमड़े पड़ रहे थे आदिवासी स्त्री-पुरुष। छोटी-छोटी दुकान सजाए दुकानदार बैठे थे अनगिनत। बिंदी-चुटीला, अंगूठी-आईना, कंगन-झुमके और वंदनवार से लहराते रूमाल व चोली की दुकानें, पान-तंबाकू की दुकानें, घर के राशनपानी से लेकर चना-चबेना तक की दुकानें। सजे-धजे आदिवासी लोग खरीदारी में जुटे थे हर दुकान पर। गोरी-चिट्टी आदिवासी युवतियां नई-नकोर साड़ी को कछोटादार शैली में बांधे हुए यहां से वहां इतराती घूम रही थीं। किसी ने पान से अपना मुंह रचा रखा था तो कोई आईसक्रीम चूसे जा रही थी। किशोर होते बच्चों के झुंड अलग थे और युवाओं के अलग। किसी का कोई नातेदार साल भर बाद भेंटा रहा था तो किसी की सहेली से दो साल बाद मिलना हो रहा था।

चौपाल पर पुरुष-स्त्रियों  का बड़ा हुजूम इकट्ठा था। गांव का संरपंच खरे साहब की बाट ही जोह रहा था संभवतः। वे दिखे तो वह लपककर आया और उनके स्वागत कर सत्कार में लग गया। वे न न कहते रहे और वह खोवे का बना कलाकंद और बेसन के बने रंग-बिरंगे मोटे सेव, गाढ़े दूध की मलाईदार चाय लेकर हाजिर होता रहा। देर तक चलता रहा यह क्रम। खरे साहब झुंझला ही पड़े आखिरकार।

अंततः चौपाल के मैदान में ढप-ढप की आवाज गुंजाता एक समूह प्रकट हुआ जिसके बीच में कुछ लोग एक बड़ा सा ढोल गले में लटकाए बजाए जा रहे थे। ढोल वादक के चारों ओर  कई आदिवासी युवक जुटे हुए थे। उनके माथे पर सफेद टोपी थी, बदन में लाल रंग की कमीज और कमर के नीचे घुटनों तक बदन को ढंकने के लिए धोती या गर्म शॉल लपेटे वे लोग मस्ती से सराबोर थे। नृत्य के नाम पर वे सब अपनी गरदन को दाएं-बाएं हिलाते हुए, कमर थिरकाते हल्के हल्के उछाल-सी भर रहे थे।

सरपंच ने बताया, ‘इस वक्त इस झुंड के लोग अपने सबसे अच्छे मांदर को परख रहे हैं। जिसका सुर उम्दा होगा वही मांदर इस झुंड में सबसे आगे चलेगा।’

‘मांदर यानी कि…!’ खरे साहब की आंखों में प्रश्न था।

‘मांदर जिसे आप पढ़े-लिखे लोग मांदल बोलते हैं, यानी कि वे ढोल जो बीच वाले लोग अपने गले में लटकाए हैं। हमारे समाज में हर सामाजिक उत्सव पर यही बाजा बजाया जाता है।

कुछ देर बात एक-एक कर कई-झुंड मैदान में उतर चुके थे। अपना बेहतर मांदल आगे किए  एक झुंड गाना आरंभ कर रहा था –

कालिया खेत में डोंगली चुगदी
बिजले नारो डोंगली का रूपालो, डुरू
डुरू …
डुरू …

सरपंच ने अर्थ समझाया यह झुंड कह रहा है कि हमने अपने काले मिट्टी वाले खेत में प्याज बोई है। प्याज अब पक चुकी है और उसके पौधे का फूल काले खेत में ऐसी चमक मार रहा है जैसे आसमान में तारा। इस चमक का उजाला सब ओर फैल चुका है।

दूसरे युवा समूह ने पहले समूह के गीत के खत्म होते ही नया गीत उठा लिया था-

अमु काका बाबा ना पोरया रे, अमी डला डम
अमु मामा फूफा ना पोरया ने  अमी डाला डम
अमी डला डम! अमी डला डम!
ओ डलियो खिलाडु डालियो
खिलाडु ओ डामियो खिलाडु ओ डम!

बिना पूछे सरपंच ने बताया आदिवासी किशोर किशोरियां कह रही हैं कि हम काका-ताऊ और मामा-फूफा के बच्चे हैं, हम मिल जुल कर खेलेंगे।

तीसरे समूह ने एक जनवादी गीत सुनाया-

बाटिये बाटिये जासु
बाटिये रेडियो बोले
होंये रेडियो काय काम को
वो बांदला घर लाले सोभा

खरे साहब ने अपने अनुमान से अर्थ लगाकर बड़े बाबू को सुनाया, ‘आदिवासी युवक कहता है कि  मैं रास्ते-रास्ते जा रहा था कि एक जगह रेडियो गाता हुआ मिला। पहले सोचा कि रेडियो ले लूं। फिर सोचा कि यह रेडियो भला मेरे जैसे आदमी के किस काम का? रेडियो तो पक्के मकानों की शोभा की चीज है!

रात उतरती जा रही थी। नाचतेगाते आदिवासियों की मस्ती बढ़ती जा रही थी। दाएं हाथ से अपने घूंघट को ऊंचा उठाए मांदल पर थिरकते पुरुषों को देखती स्त्रियों के हँसतेखिलखिलाते चेहरों पर उनके दांत चमक मार रहे थे। पैट्रोमैक्सों की रोशनी, मशालों की लप्पझप्प होती सुनहरी चमक वातावरण को मादकता और रोमानियत से भर ही थी।

खरे साहब को कौतूहल हुआ तो झिझकते हुए उन्होंने सरपंच से पूछ ही लिया, ‘सरपंच जी, मैंने कई आदिवासी समाज देखे हैं, उन सबका रंग सांवला होता है, लेकिन आपके समाज के लोग एकदम गोरेचिट्टे हैं। ऐसा क्यों है?’

‘साहब यह ताड़ी का कमाल है। हमारे यहां हर सुबह ताड़ी का डिब्बा पेड़ से उतार कर पूरा परिवार पीता है, जिसकी वजह से हम लोग तंदुरूस्त भी रहते हैं और गोरे भी।’

‘ताड़ी माने शराब?’

‘नहीं साहब, ताड़ी माने ताड़ वृक्ष का ताजा जूस!’ बड़े बाबू ने मुझे समझाया, ‘किसी दिन आपको पिलवाऊंगा। हल्का खट्टा और खूब स्वादिष्ट होता है साहब, इन दिनों खूब उतरता है इधर।’

अचानक खरे साहब की निगाह गई, देखा कि एक समूह में शामिल होकर तुलसा भी नाच रहा है। वे मुसकराए और उसी वक्त सहसा तुलसा की नजरें भी उनसे टकरा गईं तो उसने वहीं से नमस्कार किया उन्हें। खरे साहब से नमस्कार करके वह अपने झुंड से निकला फिर उसने एक क्षण रुक कर मैदान के एक कोने में खड़े महिलाओं के झुंड में से किसी को इशारा किया और सरपंच की चारपाई की तरफ बढ़ आया। उसके पीछे-पीछे एक स्वस्थ और सुंदर आदिवासी महिला आ रही थी। उस महिला ने कमर में छींटदार कपड़े का घेरदार घाघरा पहन रखा था, एक छोटी सी दुपट्टानुमा साड़ी का एक कोना नाभि के पास खुरसा हुआ था और बाकी का हिस्सा पीठ पर से होता हुआ सिर पर आया था, जिससे उस महिला का नाक से ऊपर तक का चेहरा घूंघट से ढंका था। लेकिन ताज्जुब कि उसके कमीजनुमा लंबे ब्लाउज को साड़ी के पल्लू से नहीं ढंका हुआ था, इस कारण भीतर चोली से मुक्त होने के कारण ढंके होने के बावजूद उसके स्वस्थ्य और भरे-पूरे गोल स्तन अपनी तीखी नोक के साथ उसके ब्लाउज को लगभग टांगे हुए थे।  खरे साहब ने देखा कि उसके कुछ कदम पीछे एक कमसिन आदिवासी लड़की भी चली आ रही थी।

‘ये मेरी बीवी है साहब, और ये मेरी छोरी।’ तुलसा ने उन दोनों की तरफ इशारा कर के उन दोनों का परिचय दिया। खरे साहब ने हाथ जोड़कर उसकी पत्नी को नमस्कार किया तो उसने भी हाथ जोड़ लिए।

‘चल छोरी पांव छू साहब के।’ तुलसा ने अपनी पुत्री को आदेश दिया।

पांवों की तरफ झुकती युवती के हाथ पकड़कर खरे साहब ने उसे रोक दिया, ‘बस बस! हो गया। हमारे समाज में लड़कियों से पैर नहीं छुआए जाते।’

बाप की तरफ संशय भरी निगाह फेंकती वह युवती रुक गई थी और खरे साहब टकटकी लगाकर सौंदर्य व स्वास्थ के संयोग की मूर्ति साकार करती उस युवती को देखते रह गए थे। तीखी लंबी नाक, सींप बराबर बड़ी आंखें, मटर की छोटी फली से कोमल होंठ, स्वस्थ्य और सुडौल गरदन के नीचे चमक छोड़ते गोरे कंधों से हो कर लंबे फैले हाथ। नए छींटदार कपड़े के कमीज नुमा ब्लाउज में कसमसाकर अपने युवा होने के परिचय देते उसके नन्हे उरोज युवती के उस सौंदर्य का गुणगान कर रहे थे जिसके आगे कोई भी फैशनेबुल शहराती लड़की भोंड़ी दिखती।

तुलसा का इशारा पाकर उसकी पत्नी अपने समूह की ओर चली गई थी और तुलसा खुद अपने नाचते झुंड की ओर, जबकि उसकी बेटी उस दिशा में बढ़ी थी जिधर युवकों का एक झुंड अलग थलग खड़ा भगोरिया के नाच का आनंद उठा रहा था। उसे आता देख झुंड का एक युवक उसकी ओर बढ़ा और उन दोनों के हाथ लगभग अंजलि सी बांधते हुऐ एक दूसरे से जुड़ गाए। फिर वे दोनों हँसते हुए जाने किस बात पर अपने दांतो की चमक बिखेरने लगे थे और उस कोने की ओर बढ़ लिए थे जिधर एकांत में एक चारपाई खाली पड़ी थी। वे दोनों उस चारपाई पर बैठ कर समूहों का नृत्य देखने लगे थे। खरे साहब भौंचक्के से उन्हें ताकते रह गए और बीच-बीच में कभी तुलसा और कभी अपने पास असंपृक्त भाव से बैठे सरपंच को देखने लगे थे।

रात के जाने कितने बजे तक यह गायन और नाच चलना था। खरे साहब ने संकेत किया तो बड़े बाबू ने उठकर सरपंच से अनुमति मांगी और वे लोग लौट पड़े थे।

उस दिन से दस दिन बीत चुके हैं, लेकिन कल तक तुलसा ने भगोरिया के बारे में कोई चर्चा नही की, अन्यथा खरे साहब उसकी बेटी और उस युवक की बात जरूर करते।

आज तुलसा ने इस लहजे में अपनी छोकरी के भागने की बात सुनाई है जैसे उसे न तो बेटी के भागने का कोई बिस्मय है, न इस बात से इज्जत चले जाने का कोई दुख।

दफ्तर जाते वक्त वे निश्चिंत थे।

सांझ को घर लौटे तो सोनल अटैची लगा रही थी। उन्हें आश्चर्य हुआ, ‘क्या हुआ? कहां जाने की तैयारी है?’

घर जा रही हूँ। बाबूजी अस्पताल में एडमिट हैं, उन्हें हार्टअटैक हुआ है।

वे चिंतित हुए, ‘कोई खास बात!

इधरउधर देखा सोनल ने फिर धीमे से बताया, ‘कल रात से मीनल घर नहीं लौटी है।

‘ऐं..!’

‘हां, कॉलेज के अपने एक दोस्त के साथ भाग गई है कहीं।’

‘आज के जमाने में ऐसा तो कभी भी किसी के साथ हो सकता है, इसमें ऐसी कौन सी बात है कि बाबूजी को हार्ट अटैक हो जाए’ तुलसा का दर्शन बोल उठा था खरे साहब के भीतर के जाने किस कोने से।

‘हाय मम्मी!’ सोनल हैरानी से उन्हें देख रही थी, ‘इतनी बड़ी बात को आप ऐसे हलके से ले रहे हैं, और कहते हैं कि एसी बड़ी बात क्या है। उधर मेरे मम्मी-पापा अपनी बेटी के गम में हलाकान हैं और आप…’

सचमुच रो उठी थी सोनल।

सकपकाते वे खड़े रहे थे कुछ देर, फिर सोनल को संभाला किसी तरह।

अंततः सोनल को लेकर खुद जाना पड़ा उन्हें ससुराल।

वहां पहुंच कर पता लगा कि मीनल जाते वक्त एक खत छोड़ गई है जिसमें उसने मम्मी को लिखा है कि वह बालिग है और पूरी तरह से  सोच समझ कर घर छोड़ रही है, क्योंकि घर रहेगी तो पिताजी उसकी शादी कभी उसके साथ नहीं करेंगे, जिसके साथ वह अभी जाकर शादी करने वाली है।

सांप निकल चुका था, लाठी पीटना बाकी था अब तो। लेकिन खरे साहब मजबूर थे, उन्हें दो दिन रुकना पड़ा। अस्पताल में ससुर साहब बिलकुल चुप्पी साधे लेटे थे और सास का रो रो कर बुरा हाल था। घर में दो ही बेटियां तो थीं रिटायर प्रोफेसर प्रभुदयाल जी की जिनमें से छोटी ने थू-थू करा दी उनकी नजर में। खरे साहब दो दिन में कुछ बोले नहीं सिर्फ सासु मां के प्रवचन यानी मीनल के प्रति कड़वे वचन सुनते रहे।

दूसरे दिन सांझ को तब जब प्रोफेसर अस्पताल में थे घर पर पंचायत जुटी। सोनल-मीनल के मामा आए थे और बेहद खफा थे मीनल पर, उधर मां भी अपने सर्वाधिक क्रुद्ध रूप में थी। बिरादरी के अध्यक्ष भी आए थे और घर के कानूनी सलाहकार भी। वकील ने मीनल की बी. ए. की अंकसूची देखकर बताया कि  वह सचमुच बालिग है और उसके खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही संभव नही है। हां उसके खिलाफ चोरी का मामला बनाया जा सकता है यह कह कर कि  वह घर से जेवर और नगदी रुपया लेकर भागी है। मां तो इसके लिए भी तैयार थीं, पर मामा तैयार नहीं थे, वे तो लाठी लेकर उस लौंडे को सबक सिखाने को तत्पर थे, जिसके लिए वकील ने सीधी भाषा में मना कर दिया उन्हें। बिरादरी के अध्यक्ष ने भी कुछ करने से हाथ उठा दिया, क्योंकि जिस लड़के के साथ मीनल भागी थी वह उन्हीं की जाति का होने के बावजूद गुंडा किस्म का था, अगर कुछ किया जाता तो अध्यक्ष को भी किसी मामले में फंस जाने का डर सता उठा था। परिणाम यह हुआ कि वह पंचायत बिना परिणाम के ही समाप्त हो गई।

सोनल और खरे साहब ने रात को घर लौटने का निर्णय लिया, घर पर बच्चे अकेले जो थे।

चलते-चलते खरे साहब ने सास से पूछा, ‘आपको उस लड़के के घर का पता मालूम हो तो मैं मिल कर आता हूँ।… न हो तो अपन लोग खुशी-खुशी उसी लड़के के साथ…!’

‘कतई नहीं’ लगभग चीखती हुई सोनल की मां बोली थीं ‘उस कुलच्छिनी को मरा मान लो आप सब। इस घर से सारे रिश्ते खतम उसके।’

वे सहम गए थे।

ट्रेन में सोनल खोई-खोई सी रही।

लग रहा था कि सब जगह लड़कियां भाग रहीं थीं इन दिनों, अगले दिन दफ्तर में पता चला कि कलेक्टर साहब की बहन किसी कुंवारे डिप्टी कलेक्टर के साथ भाग निकली है। औपचारिकता में सांत्वना हेतु खरे साहब कलेक्टर के बंगले पर पहुंचे तो वहां का माहौल बहुत गमगीन नहीं लगा उन्हें। भीतर से लौटते स्टेनोटूकलेक्टर से पूछा तो दबे स्वर में बोला वह, ‘साहब ने इस रिश्ते को स्वीकार कर लिया है। कल वे लोग लौट रहे हैं और लौटते ही बाकायदा ब्याह किया जा रहा है उनका। कल दावत है ऑफीसर क्लब में, आपका नाम भी आमंत्रितों में सम्मिलित है।

‘ऐं…’ चोंके वे ‘सुना है कलेक्टर साहब की विरादरी का नहीं है वह डिप्टी कलेक्टर!’

हँसा स्टेनो, ‘इन अफसरों की काहे की बिरादरी खरे साहब! हो सकता है कल वही लड़का आइ.ए.एस. में सिलेक्ट हो जाए, नहीं तो बारह साल बाद आइ.ए.एस. एवार्ड तो हो ही जाएगी उसे। इससे बड़ी कौन सी बिरादरी होती है?’

खरे साहब मुंह बाए उसे ताकते ही रह गए और सीधे घर लौट आए।

अगले दिन ऑफिस के लिए बाहर निकले ही थे कि लॉन में काम करता तुलसा अचानक उनके सामने हाजिर था, ‘साहब मामला निपट गया सब। लड़के के बाप ने डंड भरने का वायदा किया है। हम लोगों की आपसी तकरार खत्म हो गई। रुपया मिलते ही धूमधाम से ब्याह करूंगा उसी लड़के के साथ अपनी छोरी का।’

‘ऐं…!’ वे फिर से चकित थे।

‘हां साब’, कहता प्रमुदित तुलसा खुरपी-तसला उठा कर दूब खोदने में जुट गया था।

ऑफिस में अपनी टेबल पर बैठकर खरे साहब काम करने के पहले यह तय करने का प्रयास कर रहे थे कि किस सोसायटी को सही मानें वे, अपने ससुर की! तुलसा की! या फिर कलेक्टर साहब की!

सहसा वे चेते।

तुलसा और उसके समाज का जीवनदर्शन बेहद शानदार लगा उन्हें। जिस पर विचार करते हुए एकाएक लगा कि तुलसा ने उनके चिंतन को कितना विस्तृत आयाम दिया है, दृष्टि ही बदल डाली है उनकी तो।

क्या फर्क है तुलसा और बहुत बड़े लोगों में? एक से हैं वे दोनों तो!

लेकिन खुद की मध्यवर्गीय सोसायटी कहां है, उन दोनों के सामने?

वे तर्क-वितर्क की भूलभुलैया में फंसते जा रहे थे।

 

संपर्क : 89 हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, बस स्टैंड दतिया, मध्यप्रदेश-475661 मो.9826689939