वरिष्ठ लेखक।लगभग 11 पुस्तकें प्रकाशित।वाणी एवं सृजनवार्षिक पत्रिका के संपादक।

ठाकुर रिपुदमन सिंह बेचैनी से अपने चौपाल पर टहल रहे थे।उनके चेहरे पर चिंता और झुंझलाहट के भाव थे।

पुश्तों से रमनगला के लोग उनके खेतों पर मजदूरी करते चले आ रहे थे।जो ठाकुर साहब ने दे दिया वह रख लिया, कभी उफ तक नहीं की।मगर पिछले चुनावों से हवा का रुख बदल गया था।आज तक जितने भी चुनाव हुए थे रमनगला के लोगों ने आंख मूंद कर उसी कॅन्डीडेट का समर्थन किया जिसके लिए रिपुदमन सिंह ने हुक्म कर दिया।मगर इस चुनाव में रिपुदमन के लाख डराने-धमकाने के बावजूद उन्होंने रिपुदमन के कॅन्डीडेट को वोट न देकर अपनी बिरादरी के कॅन्डीडेट को वोट दिया था।रिपुदमन सिंह खून का घूंट पीकर रह गए थे।अभी वे इस अपमान को ढंग से पचा भी नहीं पाए थे कि रमनगला के लोगों ने रिपुदमन सिंह की प्रभुसत्ता को एक और चुनौती दे डाली थी।

इस बार जब खेतों पर काम शुरू हुआ तो रमनगला के लोगों ने पुरानी मजदूरी दरों पर काम करने से साफ इनकार कर दिया था।ठाकुर हाथ मलते रह गए थे।धान की रोपाई का समय धीरे-धीरे निकला जा रहा था मगर रमनगला के मजदूर टस से मस नहीं हो रहे थे।

रिपुदमन सिंह यह बात अच्छी तरह समझ गए थे कि यह सब रमनगला के मुखिया रामवचन की शह पर हो रहा था।रामवचन का दिमाग इन दिनों सातवें आसमान पर था।हाल में हुए चुनावों से वह खुद को नेता समझने लगा था।रामवचन भी पहले रमनगला के अन्य लोगों की तरह रिपुदमन सिंह के खेतों में काम करता था।मगर जब से रामवचन का लड़का सरकारी नौकरी पर लगा था, रामवचन ने ठाकुर के खेतों पर काम करना बंद कर दिया था।

पांच-छह साल पहले रामवचन ने पांच बीघे का एक खेत खरीद कर उस पर खेती शुरू की थी।अपनी मेहनत से रामवचन ने अब अपनी जमीन बढ़ाकर बारह बीघे कर ली थी।लड़का भी बीच-बीच में रुपये-पैसे से उसकी मदद कर देता था, इसलिए रामवचन का परिवार बिरादरी में एक खाता-पीता परिवार बन गया था।

पार्टी नेताओं के साथ रहने से रामवचन को नई-नई बातों की जानकारी मिलती रहती थी, जिससे उसमें एक अनोखा आत्मविश्वास आ गया था।यद्यपि रामवचन का उम्मीदवार चुनाव हार गया था मगर उसके उत्साह में कोई कमी नहीं आई थी।वह अब भी गांव-गांव में जाकर अपनी बिरादरी के लोगों को समझाता था।

रिपुदमन सिंह के कानों में ये बातें पिघले हुए शीशे के समान पड़ती थीं।वह घायल नाग की तरह फुफकार कर रह जाते थे।रामवचन के बढ़ते प्रभाव को रोकने और रमनगला के लोगों में फूट डालने की उन्होंने काफी कोशिश की थी, मगर उन्हें इसमें कामयाबी नहीं मिली थी।अब वे किसी ऐसे उपाय की तलाश में थे कि सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे।

रिपुदमन सिंह इन्हीं विचारों में खोए हुए थे कि तभी उनके नौकर ने आकर उन्हें दारोगा जी के आने की सूचना दी।रिपुदमन सिंह उठकर बाहर आ गए और दारोगा जी का स्वागत करते हुए बोले- ‘आइए दारोगा जी, आज कैसे रास्ता भूल गए? काफी दिनों से आपके दर्शन नहीं हुए?’

‘हां, इलेक्शन की वजह से कई महीनों से इधर आना नहीं हुआ।आज इधर आया तो सोचा आपसे मिलता चलूं।’

‘बड़ी कृपा की आपने।और सुनाइए क्या हाल चाल हैं?’

‘सब ठीक है।आप सुनाइए, कुछ चिंतित मालूम पड़ रहे हैं ठाकुर साहब, क्या बात है?’

‘नहीं-नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है।’ रिपुदमन सिंह मन के भावों को छुपाते हुए बोले।

‘खैर, आप न बताना चाहें तो कोई बात नहीं है।’ दारोगा जी कनखियों से रिपुदमन सिंह को देखते हुए बोले।

दारोगा जी से ठाकुर रिपुदमन सिंह की काफी घनिष्ठता थी और वास्तव में पुलिस वालों के मेलजोल के कारण ही उनका गांव में इतना रुतबा था।रिपुदमन सिंह ने अब दारोगा जी को सारी बातें बता देना ही उचित समझा।

‘हूँ… तो सारे झगड़े की जड़ रामवचन ही है।’ दारोगा जी बोले- ‘मामला जरा टेढ़ा है।कोई सीधी कार्यवाही करने पर मामला तूल पकड़ सकता है।हमें फूंक-फूंक कर कदम रखना होगा।फिर भी चिंता करने की कोई बात नहीं है, कोई न कोई उपाय निकल ही आएगा।’

फिर दारोगा जी और ठाकुर साहब में काफी देर तक खुसर-पुसर होती रही।दोनों लंबे समय तक मंत्रणा करते रहे।दारोगा जी के आने की खुशी में रिपुदमन सिंह ने दावत का इंतजाम किया।देर रात तक पीने-पिलाने का दौर चलता रहा।

आधी रात के बाद दारोगा जी विदा हुए।दरोगा जी को विदा करने के बाद रिपुदमन सिंह ने एक पेग और बनाकर पिया था।अब उनके चेहरे का तनाव खत्म हो चुका था और वह काफी निश्चिंत दिखाई दे रहे थे।

उधर इस सबसे बेखबर रामवचन अपनी खपरैल में लेटा-लेटा हुक्का गुड़गुड़ा रहा था।

‘थोड़ी सी तंबाकू हुक्के में और डाल देना’ रामवचन ने अपनी बीवी मोरकली को आवाज लगाई थी।

‘इतनी रात हो गई… सोए नहीं?’ मोरकली चिलम में तंबाकू डालते हुए बोली।

‘हां, आज नींद नहीं आ रही है।’

‘क्या बात है, कुछ परेशान लग रहे हो?’ मोरकली पास बैठते हुए बोली।

‘तू तो जानती ही है सुखपाल की मां, लड़के को चिट्ठी लिखी थी कि खाद के लिए कुछ रुपये भेज दे, मगर बीस दिन से ऊपर हो गए इस बात को, उसने अभी तक रुपये नहीं भेजे।’

‘नहीं भेज पाया होगा बेचारा।घर-गृहस्थी के पचास झंझट होते हैं।फिर मंहगाई कितनी बढ़ गई है… ऊपर से शहर का खर्चा।’

‘वह तो ठीक है मगर धान की फसल में खाद कैसे लगे, मुझे तो यही चिंता खाए जा रही है।’

‘कहीं से रुपये उधार ले लो, जब फसल हो जाएगी तो लौटा देंगे।’ मोरकली मशविरा देते हुए बोली।

‘मैंने कई जगह कोशिश की मगर बात नहीं बनी।ठाकुर चुनाव की वजह से पहले ही चिढ़े बैठे हैं।उनकी वजह से गांव में रमनगला के लोगों को कोई कर्जा देने को तैयार नहीं है।’ रामवचन के स्वर में गहरी निराशा झलक रही थी।

‘फिर क्या किया जाए?’ मोरकली ने गहरी सांस ली।

‘मैं एक बात कहूं, अगर तू बुरा न माने तो?’ रामवचन मोरकली की ओर देखते हुए बोला।

‘हां-हां कहो।’

‘ऐसा करते हैं, तुम्हारी हंसुली गिरवी रख देते हैं।हजार-बारह सौ रुपये मिल जाएंगे।जब रुपया होगा छुड़ा लेंगे।’

मोरकली को इसमें भला क्या आपत्ति हो सकती थी।वह बोली- ‘जैसा तुम ठीक समझो।’

दूसरे दिन सवेरे ही रामवचन बैलगाड़ी लेकर शहर चल दिया था।रिपुदमन सिंह तो इसी ताक में थे।वे भी शहर पहुंच गए और अपनी गोटियां फिट करने लगे।

उन दिनों खाद की बड़ी किल्लत चल रही थी।शहर में खाद की जमकर कालाबाजारी हो रही थी।

रामवचन ने पहले एक जान-पहचान की दुकान पर जाकर चौदह सौ रुपये में हंसली गिरवी रखी फिर वह खाद की तलाश में निकल पड़ा।रामवचन ढूंढते-ढूंढते परेशान हो गया मगर ऐसा लग रहा था मानो खाद बाजार से गायब हो गई थी।अधितकर खाद की दुकानों में ताले लगे हुए थे।जो दुकानें खुली थीं उन पर भी ‘स्टॉक निल’ का बोर्ड लगा हुआ था।ढूंढते-ढूंढते शाम हो गई, तब कहीं जाकर रामवचन को दो सौ रुपये बोरे के हिसाब से पांच बोरे खाद मिल पाई।पैसा चुकाकर खाद के बोरे लादकर रामवचन ने बैलगाड़ी गांव की ओर मोड़ दी।

शाम का धुंधलका छाने लगा था।रामवचन का गांव शहर से दस किलोमीटर दूर था।रामवचन बैलों को हांकता हुआ चला जा रहा था।उसे जल्दी घर पहुंचने की चिंता सताने लगी थी।वह सोच रहा था- अंधियारी रात है इसलिए अंधेरा घिरने से पहले ही घर पहुंच जाए तो अच्छा रहेगा।

रामवचन की बैलगाड़ी अभी शहर की सीमा पार कर गांव जाने वाली सड़क पर पहुंची ही थी कि सामने से आती पुलिस की जीप ने उसका रास्ता रोक लिया।रामवचन ने बैलगाड़ी रोककर पुलिस वालों को नमस्ते की।जीप में से एक सब-इंस्पेक्टर उतरा।उसने रामवचन से रौब से पूछा- ‘तुम्हारी गाड़ी में क्या है?’

‘खाद है साहब।’ रामवचन ने बड़े निश्चिंत स्वर में कहा।

‘खाद! खाद तुम्हें कहां से मिल गई?’ सब इंस्पेक्टर विस्मय से बोला- ‘जरा गाड़ी की तलाशी लो।’ उसने सिपाहियों को आदेश दिया।

‘खाद के पांच बोरे हैं साहब।’ एक सिपाही तलाशी लेते हुए बोला।

‘मुझे तो दाल में कुछ काला नजर आ रहा है साहब।’ दूसरे सिपाही ने शंका जाहिर की।

‘मुझे तो यह खाद चोरी की मालूम पड़ रही है साहब।’ तीसरा सिपाही बोला।

सब-इंस्पेक्टर ने रामवचन को ऊपर से नीचे तक घूरा फिर कड़ककर पूछा- ‘यह खाद तुम कहां से चुराकर लाए हो?’

‘हम कोई चोर उचक्के नहीं है साहब।यह खाद हम बाजार से खरीदकर लाए हैं।’ रामवचन निर्भीकता पूर्वक बोला।

‘किसके यहां से खरीदी है?’ सब-इंस्पेक्टर ने दूसरा प्रश्न दागा।अब रामवचन घबराया।उसे अपनी गलती का अहसास हुआ।उसने खाद खरीदते समय दुकानदार का नाम तो पूछा ही नहीं था।फिर भी वह किसी तरह साहस जुटाकर बोला- ‘दुकानदार का नाम तो मुझे मालूम नहीं है साहब।’

‘हूं!’ सब-इंस्पेक्टर गुर्राया।सब इंस्पेक्टर के हाव-भाव से अब रामवचन को अंदर ही अंदर घबराहट-सी होने लगी थी।वह चुपचाप खड़ा था।

‘तुम उस दुकान तक हमको लेकर जा सकते हो?’ सब-इंस्पेक्टर कुछ सोचता हुआ बोला।

‘हां-हां क्यों नहीं साहब।’ रामवचन उत्साहित स्वर में बोला।अब उसकी जान में जान आई।

‘ठीक है, ये बोरे जीप में डाल लो और तुम भी बैठ जाओ।’

रामवचन ने सब-इंस्पेक्टर के आदेश का पालन किया।सब-इंस्पेक्टर ने एक सिपाही को बैलगाड़ी को थाने लाने का आदेश दिया और स्वयं रामवचन को लेकर शहर की ओर चल दिया।

रामवचन के बताए हुए रास्तों पर होती हुई जीप उस दुकान पर पहुँची जहां से रामवचन ने खाद खरीदी थी।पुलिस की जीप में रामवचन को बैठा देखकर दुकानदार सशंकित हो उठा।पलक झपकते ही वह सारा माजरा समझ गया।

सब-इंस्पेक्टर ने पूछा- ‘क्या इस आदमी ने खाद के ये बोरे तुम्हारी दुकान से खरीदे हैं?’

‘कैसी बातें कर रहे हैं हुजूर? मेरे यहां तो दस-पंद्रह दिन से खाद ही नहीं है।यह देखिए ‘स्टॉक निल’ का बोर्ड लगा हुआ है।’ दुकानदार रंग बदलते हुए बोला।

‘सेठ जी, क्यों झूठ बोल रहे हो? भगवान से तो डरो।अभी दो घंटे पहले ही तो तुम्हारी दुकान से खाद ले गया था।’ रामवचन ने आहत स्वर में कहा।

‘आप इसकी बातों में न आइए साहब।लगता है ये खाद के बोरे कहीं से चुरा लाया है और पकड़े जाने पर मेरे मत्थे मढ़ना चाहता है।’

सब-इंस्पेक्टर ने रामवचन को आग्नेय नेत्रों से घूरा।रामवचन सहम गया।उसने कुछ कहना चाहा मगर शब्द उसके गले में ही अटक कर रह गए।

दुकानदार सब-इंस्पेक्टर को एक तरफ ले गया।सौ-सौ के कुछ नोट सब इंस्पेटर की जेब में ठूंसते हुए बोला- ‘हम तो आपके सेवक हैं हुजूर।हमें किस लफड़े में फँसा रहे हो?’

सब-इंस्पेक्टर मुस्कराया और रामवचन की ओर आते हुए बोला- ‘चलो, थाने चल कर ही इससे पूछताछ की जाएगी।’

थाने पहुंच कर सब-इंस्पेक्टर ने रामवचन को लॉकअप में बंद करने का आदेश दे दिया।फिर सब-इंस्पेक्टर दूसरे कमरे में पहुंचा।वहां ठाकुर रिपुदमन सिंह पहले से ही दावत का इंतजाम किए बैठे थे।पीने-पिलाने का दौर चलने लगा।रिपुदमन सिंह और सब-इंस्पेक्टर के ठहाके दूर-दूर तक गूंज रहे थे।

दूसरे कमरे में सिपाही रामवचन को लाठियों से पीट रहे थे और उससे सच उगलवाने की कोशिश कर रहे थे।तलाशी के बहाने सिपाहियों ने रामवचन के बचे हुए चार सौ रुपये भी हथिया लिए।

पिटते-पिटते रामवचन बेहोश होकर जमीन पर गिर गया था।जब सिपाहियों ने देखा कि रामवचन में अब कोई तंत नहीं रहा है तो उन्होंने रामवचन को पीटना बंद कर दिया था।

रामवचन से बरामद खाद के बोरे रातों-रात रिपुदमन सिंह की हवेली में पहुंचा दिए गए थे।इसके एवज में रिपुदमन सिंह ने सौ-सौ के कुछ कड़क नोट सब-इंस्पेक्टर की जेब में डाल दिए थे।

रमनगला के लोगों में जब रामवचन की गिरफ्तारी की खबर पहुंची तो वहां खलबली मच गई।कुछ लोग अपनी पार्टी के नेताओं को खबर देने के लिए शहर दौड़े मगर वहां पहुंचने पर पता चला कि नेता लोग कुछ काम से राजधानी गए हुए हैं और तीन-चार दिन में लौटेंगे।

रमनगला के लोगों ने इधर-उधर हाथ-पैर मारे मगर जब कोई चारा नहीं रहा तो रामवचन की बीवी मोरकली रमनगला के कुछ बुजुर्ग लोगों को लेकर रिपुदमन सिंह की हवेली पहुंची।रिपुदमन सिंह उस समय तख्त पर बैठे दातून कर रहे थे।मोरकली को रमनगला के कुछ लोगों के साथ आता देख कर वे मन ही मन मुस्कराए।

‘मेरे आदमी को छुड़ा लीजिए ठाकुर साहब।’ मोरकली रिपुदमन सिंह के पैर पकड़कर गिड़गिड़ाते हुए बोली।

‘क्या बात है?’ रिपुदमन सिंह अनजान बनते हुए बोले।

साथ आए लोगों ने रिपुदमन सिंह को रामवचन की गिरफ्तारी का पूरा हाल सुना दिया।

‘हूँ! मामला गंभीर है।’ रिपुदमन सिंह सोचने का नाटक करते हुए बोले।

‘अब सब आपके ही हाथ में है मालिक।’ साथ में आए लोगों ने चिरौरी की।

‘क्यों, तुम लोग अपने नेताओं के पास क्यों नहीं चले जाते जिनको तुमने वोट दिए थे?’ ठाकुर साहब उलाहना देते हुए बोले।

‘वह हम लोगों की नादानी थी मालिक।’ सब लोग नजरें नीची करके बोले।

‘ठीक है, तुम सब लोग पहले की तरह मेरे खेतों पर काम पर जाओ।दो-तीन दिन में धान की रोपाई हो जानी चाहिए।मैं रामवचन को छुड़वाने का बंदोबस्त करता हूँ।’ रिपुदमन सिंह ने आदेशपूर्ण स्वर में कहा।

‘बहुत अच्छा मालिक।’ सभी ने एक स्वर में कहा।

‘खाद की चोरी का मामला है।जुर्म संगीन है।दारोगा दस-पंद्रह हजार रुपये से कम नहीं लेगा।रुपयों का इंतजाम करके लाई हो?’ रिपुदमन सिंह ने मोरकली से पूछा।

‘मेरे पास तो फूटी कौड़ी नहीं है।ले-दे कर एक हंसुली थी, उसे गिरवी रखकर ही खाद लेने गए थे।’ मोरकली रुआंसी होकर बोली।

‘फिर क्या किया जाए?’ रिपुदमन सिंह ने फिर सोचने का अभिनय किया।

‘अब तो आपका ही सहारा है मालिक।आप ही हमें इस संकट से उबार सकते हैं।’ मोरकली गिड़गिड़ाई।

‘ठीक है, मैं कहीं न कहीं से रुपयों का इंतजाम करके शाम तक रामवचन को छुड़ा लूंगा।मगर इसके एवज में दो साल तक तुम्हारे खेत मेरे रेहन रहेंगे।दो साल बाद जब रुपया हो जाए तो अपने खेत छुड़ा लेना।मंजूर हो तो बताओ।’ रिपुदमन सिंह ने मोरकली की ओर देखते हुए पूछा।

मोरकली सोच में पड़ गई।रामवचन ने खून पसीना एक करके खेत खरीदे थे।इन खेतों के कारण ही बिरादरी में उसका इतना मान था।खेतों को रेहन रखने का मतलब था रामवचन की आजादी को रेहन रख देना।मगर रामवचन को छुड़ाने का इसके सिवाय कोई उपाय भी नहीं था।

वह बोली- ‘मुझे मंजूर है मालिक।’

रिपुदमन सिंह को मानो मुंह मांगी मुराद मिल गई थी।

संपर्क :-979, राजेंद्र नगर, बरेली-243122 (उप्र) मो.9411422735